अवैध बूचड़खानों के सवाल पर सीएम नीतीश कुमार का योगी सरकार को नसीहत

512
0
SHARE

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को लोक संवाद कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बातचीत कर रहे थे। इसी बीच पत्रकारों द्वारा अवैध बूचड़खानों को लेकर सवाल पूछा गये। इसपर सीएम नीतीश ने भड़कते हुए कहा कि यह कोई मुद्दा ही नहीं है। असल मुद्दा आजकल मीडिया के केंद्र से गायब है।

Read More Patna News in Hindi

मीडिया में रोजगार, शिक्षा, कृषि और स्वरोजगार का मुद्दे पर न बहस की जाती और न ही कोई सवाल होते। बिहार में कोई भी अवैध तरीके से बूचड़खाना नहीं चला सकता। यहां 1955 से ही कानून है और वह पूरी तरह लागू है। आजकल नॉन इश्यू को मीडिया में मुख्य मुद्दा बनाया जा रहा है। शराबबंदी और सामाजिक मसले पर कोई मुद्दा नहीं बनाया जाता। आजकल ऐसे मुद्दे उठाये जा रहे हैं, ताकि लोग मूल मुद्दे को भूल जाएं। बूचड़खाना का मुद्दा भी कुछ इसी तरह का है। यह मुद्दा समस्याओं से ध्यान हटाने का मुद्दा है। पूरे देश में शराबबंदी लागू होनी चाहिए। सही मायने में यदि केंद्र सरकार को चंपारण सत्याग्रह और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रति सच्ची प्रतिबद्धता है, तो वह पूरे देश में शराबबंदी लागू करें। मैंने यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और छतीसगढ़ के सीएम से भी शराबबंदी की अपील की थी। अब यूपी के वर्तमान मुख्यमंत्री से भी शराबबंदी की अपील करता हूं।

Read More Bihar News in Hindi

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यूपी में बीजेपी को मिली जीत और चुनाव के दौरान किये गये वायदे को याद दिलाते हुए कहा कि किसानों का कर्ज माफ करने की बात कहकर सत्ता में आये हैं, तो उसे पूरा क्यों नहीं करते हैं। नीतीश ने नोटबंदी की भी चर्चा करते हुए कहा कि उन्होंने इसका समर्थन किया था, लेकिन कोई बता नहीं रहा कि आखिर कितना काला धन आया। इसके अलावा बेनामी संपत्ति जब्त करने की उन्होंने मांग की थी, लेकिन केंद्र इस पर मौन साधे हुए है और जब तक बेनामी संपत्ति जब्त करने की प्रक्रिया शुरू नहीं होती काले धन के खिलाफ अभियान अधूरा रहेगा।

उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणाम के बारे में पूछे जाने पर नीतीश ने कहा कि अगर वहां महागठबंधन होता तो शायद परिणाम कुछ और होता। चुनाव परिणाम पर नीतीश ने कहा कि साफ़ है कि समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस का वोट प्रतिशत बीजेपी और उसके सहयोगियों से दस प्रतिशत ज्यादा है। जहां विपक्षी एकता होगी वहां बेहतर परिणाम आते हैं। विकल्प के रूप के रूप में कोई पार्टी उभरती है तो उसे सफलता मिलती है। एक व्यापक विपक्षी एकता होती तो परिणाम अलग आता, लेकिन नीतीश की मानें तो बीजेपी विरोधी दलों को अब जनहित और राष्ट्रहित के मुद्दे उठाने चाहिए। अपना एजेंडा सेट करना चाहिए, जैसे महागठबंधन बिहार में सफल हुआ है, देश में महासफल होगा। वामपंथी दलों से बातचीत हुई है।