सीएम नीतीश ने विशेष दर्जे की मांग को कहा लॉजिकल

149
0
SHARE

पटना – पीएम मोदी के द्वारा चुनाव में विशेष दर्जा के वादे पर नीतीश कुमार ने कहा कि यह सवाल सुशील मोदी से पूछिए, विशेष दर्जा हमारी मांग नहीं पूरे बिहार की मांग है जो कि लॉजिकल है. विधान मंडल में सर्व सहमति से विशेष दर्जा की मांग का प्रस्ताव पारित हुआ. प्रस्तवा में बीजेपी की भी सहमति है. 15 वें वित्त आयोग में इसकी चर्चा होगी. ऑल पार्टी सर्व सहमत प्रस्ताव भी दिया जाएगा 15वें वित्त आयोग को.

बालिका गृह यौन शोषण मामले में समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव को सीएम ने सफाई देने के लिए वापस बुलाया. प्रेस कांफ्रेंस में दुबारा लौट कर प्रधान सचिव अतुल प्रसाद ने पूरे घटना पर सफाई दी. बालिका गृह में यौन शोषण के मामले में नीतीश कुमार ने कहा कि मुझे जानकारी मिली समाज कल्याण विभाग ने इस मामले का खुद उद्भेदन किया. इस तरह के मामले को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. जहां भी ऐसी घटना घटी है कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने कहा कि नई व्यस्था को सृजित की जाए ताकि ऐसी घटना न घटे. बालिका गृह को अच्छे से कैसे चलाएं इस पर समाज कल्याण विभाग काम करे.

लोक संवाद में वैशाली से आये चंदन कुमार का स्कूलों में मिड डे मील में सुधार के लिए आया सुझाव. शिक्षकों के स्थानांतरण के लिए कानून में बदलाव का दिया सुझाव. ट्रांसजेंडर रेशमा प्रसाद ने महिलाओ के लिए सिलिकॉन के सैनेटरी कप के इस्तेमाल का दिया सुझाव साथ ही किन्नर समुदाय के बोर्ड के लिए कार्यालय एवं आंगनवाड़ी केंद्रों में ट्रांसजेंडर के नियुक्ति का दिया सुझाव.

वहीं पटना से आये मुकेश हिसारिया ने स्वास्थ्य विभाग के अंर्तगत ब्लड के जांच संबंधी दिया सुझाव. थलेसिमिया बीमारी के इलाज के लिए बिहार में नही मिलता ब्लड. ऐसे बीमार व्यक्ति को ब्लड मुहैया कराने संबंधी दिया सुझाव. ब्लड के प्रोसेसिंग फी को फ्री करने का दिया सुझाव. प्रोसेसिंग में एक यूनिट में 400 से 500 रुपये होते हैं खर्च. मुकेश हिसारिया ने ब्लड की समस्या से निदान के सीएम नीतीश को दिया कई सुझाव. मुकेश हिसारिया के सभी सुझाव को मुख्यमंत्री नीतीश ने व्यवहारिक कहते हुए अधिकारियों को हर सुझाव पर विचार करने का दिया निर्देश.