नौकर और माली ने मिलकर की थी महंत दंपति की हत्या!

421
0
SHARE

पटना: महंत विपिन बिहारी और उनकी पत्नी सविता शर्मा की हत्या में उनके नौकर और माली का हाथ है। दोनों ने लूटपाट के लिए प्लान बनाकर उनकी हत्या कर दी। पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस मामले की पूरी संजीदगी से तहकीकात कर रही है।

पटना के एसएसपी मनु महाराज ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि महंत दंपति की हत्या लूटपाट की नीयत से गई है। तमाम सुबूत इसी ओर इंगित कर रहे हैं कि पैसों के लिए उनके नौकर और माली ने मिलकर उनकी हत्या की है। हालांकि जांच के अन्य बिंदुओं पर भी पुलिस तहकीकात कर रही है लेकिन फिलहाल नौकर और माली की संलिप्तता ही नजर आ रही है।

सौ करोड़ से अधिक की संपत्ति के मालिक विपिन बिहारी दास बेगूसराय के बखरी थानान्तर्गत सलोना मठ के महंत थे। पुरखों और ससुराल से उन्हें काफी संपत्ति मिली है। सलोना कुंज उनके ससुर की जमीन पर बना है, जो उन्हें तोहफे में मिला था।

करबिगहिया में उनकी काफी जमीन है, जिसे उन्होंने बिल्डर को अपार्टमेंट बनाने के लिए दे रखा है। उसपर चार टावर बन चुके हैं। एक होटल भी है, जो उन्होंने किराए पर दे रखा है। बेगूसराय और पटना के अलावा कई शहरों में उनकी अकूत संपत्ति है।

पुलिस ने पूरा घर तलाश लिया, लेकिन हत्यारे के बारे में कोई सुराग नहीं मिला। किचन में बर्तन धोकर रखे हुए थे। ऐसा लग रहा था मानो शनिवार की शाम दंपती के लिए खाना नहीं बना। घर में खाना बनाने के लिए नौकरानी आती थी, जिसका पता लगाया जा रहा है। ड्राइंग रूम में टेबल पर चाय का एक जूठा कप और आधा भरा पानी का गिलास व बोतल बरामद हुई है। एफएसएल ने कप, गिलास और बोतल से अंगुलियों के निशान लिए हैं।

पुलिस का कहना है कि अपराधियों ने मेन गेट नहीं तोड़ा। जिस बेड रूम में लाश रखी हुई थी, उसमें एक कप में आधी चाय थी। इसका मतलब विपिन और सविता ने साथ चाय नहीं पी। अगर चाय पी होती तो वहां दो कप होते। एक कप का रहना किसी तीसरे की ओर इशारा कर रहा है।

पुलिस के मुताबिक कोई तीसरा वहां आया, चाय पी। फिर उसने दोनों की हत्या का प्लॉट तैयार किया। चाय पीने वाले ने दोनों का गला घोंटा और चलते बने।

मृतक महंत के बेटे सौरभ ने बताया कि पिता और मां दोनों अलग-अलग कमरे में सोते थे। लेकिन दोनों की लाश एक ही बेड रूम में फर्श पर पड़ी थी। इसका मतलब यह है कि हत्यारे वहां पहुंचे और दोनों किसी मुद्दे पर बात करने आए या किसी जमीन के बारे में बात करने को। दोनों को बातचीत में भरोसे में लिया होगा और फिर दोनों को बंधक बनाने के बाद एक साथ गमछा से गला घोंट दिया गया।

अपराधियों ने 71 साल के विपिन और सविता की हत्या करने के बाद लूट का शक्ल देने की कोशिश की। कमरे के अलमारी में रखा सामान बिखरा पड़ा था। लेकिन कोई चीज गायब होने की जानकारी पुलिस को नहीं मिली। इधर, सविता के शरीर पर लाखों का गहना था, लेकिन सभी मौजूद थे।

पहले भी हो चुकी है ऐसी हत्या
– 12 अप्रैल 2002 : कृष्णा अपार्टमेंट, बोरिंग रोड में आईपीएस अफसर की मां मालती देवी व नौकर प्रमोद की हत्या।
– 21 मई 2005 : गर्दनीबाग, बैंककर्मी की पत्नी मंदिरा बोस व दो बच्चों की हत्या।
– 3 दिसंबर 2006 : पाटलिपुत्र कॉलोनी, प्रो. पापिया घोष व नौकरानी मालती की हत्या।
– 16 अगस्त 2010 : नाला रोड, फर्नीचर व्यवसायी की पत्नी आरती गुप्ता व दो बच्चों की हत्या।