दारू के धंधे को लाठी से कर दें ध्वस्त, सरकार आपके साथ : सीएम

402
0
SHARE

मुजफ्फरपुर: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने निश्चय यात्रा के दौरान आज मुजफ्फरपुर में हैं। उन्होंने मुरौल की इटहा रसूलपुर में खुले में शौच से मुक्ति कार्यक्रम का निरीक्षण किया। इसके अलावा घर-घर बिजली योजना तथा कौशल विकास केंद्र का भी मुआयना किया। मुरौल में जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने जीविका की दीदियों से दारू के धंधे को लाठी लेकर ध्वस्त करने का कहा।

मुख्यमंत्री मुरौल के माणिकपुर के ईटहा गांव में खुले में शौच से मुक्ति कार्यक्रम में पहुंचे। वहां उन्होंने शौचालय के साथ सोख्ता बनाने का आह्वान किया। इस गांव के वार्ड नंबर दो व पांच को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया गया है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि शिकायत के समाधान को कानून बनाकर जनता को अधिकार दिया गया है। उन्होंने गांव में लोक शिकायत अधिकार कानून के बारे में जागृति लाने का आह्वान किया। कहा कि गांवों में कोई निरक्षर न रहे, इसके लिए भी अभियान चलाना है।

राज्य में शराबबंदी को और धार देने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज महिलाओं को हथियार थमा दिया। मुरौल के माणिकपुर ईटहां गांव में, जीविका की दीदियों को दारू के धंधे को लाठी लेकर ध्वस्त करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इस काम में सरकार उनके साथ है। उन्होंने कहा कि लाठी-डंडा लेकर आइए और शराब का धंधा चल रहा हो तो तोड़फोड़ कर दीजिए। सरकार आपके साथ है।

वापसी के क्रम में मुख्यमंत्री को सकरा में एक ट्रांसफॉर्मर का उद्घाटन करना था, लेकिन वे वहां नहीं जा सके। इससे नाराज स्थानीय लोगों ने हंगामा कर दिया। भीड़ ने ढ़ोली-सकरा मार्ग जाम कर विरोध का इजहार किया।

आज सुबह सर्किट हाउस में ठहरे मुख्यमंत्री से राजद के कुछ नेता मिलने पहुंचे। लेकिन उन्हें नहीं मिलने दिया गया। इससे नाराज राजद कार्यकर्ताओं ने सर्किट हाउस के बाहर नारेबाजी की। नारेबाजी के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बाहर आकर कार्यकर्ताओं से मिले और आम लोगों के आवेदन लिए।