डाक्टरों और मरीज के परिजनों के बीच हंगामा, कई एंबुलेंस को तोड़फोड़ किया आग के हवाले

241
0
SHARE

डाक्टर जिसे पृथ्वी पर भगवान का रूप माना जाता है, अगर उनके हाथ में डंडा दिखे तो हो सवाल उठना लाजमी है। मरीजों की अनदेखी को लेकर आए दिन डाक्टरों की मनमानी की घटना भी सामने आती रहती है। डॉक्टर और मरीजों में कहा सुनी तो आम बात है। लेकिन यही कहा सुनी की घटना उग्र रूप ले लेती है जब मरीज के साथ कोई बड़ा हादसा हो जाता है।

Read More Muzaffarpur News in Hindi

इसकी एक बानगी मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच में शुक्रवार को देखने को मिली। मरीज के परिजनों और जूनियर डॉक्टरों के बीच कहा सुनी की घटना हंगामा में तब्दील हो गया। इस हंगामे में 10 से ज्यादा एंबुलेंस को तोड़फोड़ कर दिया गया। यही नहीं उपद्रवियों ने दो एबुंलेस को आग के हवाले भी कर दिया । दरअसल गुरुवार शाम परिजन एक मरीज को गंभीर हालत में अस्पताल लेकर पहुंचे थे लेकिन निजी एबुंलेस कर्मियों ने बेहतर इलाज के नाम सरकारी अस्पताल के बजाय प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराने के लिए ले जाने लगे तभी मरीज की मौत हो गई।

Read More Bihar News in Hindi

मरीज के परिजन इससे नाराज हैं कि अस्पताल के आसपास निजी एंबुलेंस के दलाल भरे हुए हैं और मरीजों को बहला फुसलाकर निजी अस्पताल में भर्ती कराते हैं। मरीज की मौत के बाद शुक्रवार सुबह मरीज के परिजनों ने हंगामा कर जूनियर डॉक्टरों की पिटाई कर दी। पिटाई की घटना के बाद नाराज डॉक्टर भी उग्र हो गए और मृतक के परिजनों तथा डॉक्टरों में बीच जमकर हंगामा हुआ। कुछ देर में हंगामे ने उग्र रूप ले लिया। मौके पर एसएसपी ब्रजेश राणा के साथ कई थानों की पुलिस भी पहुंची। कड़ी मस्कत के बाद किसी तरह पुलिस ने मामला को शांत कराया। हालांकि एसएसपी ने फायिरंग से इंकार किया है लेकिन पुलिस को उपद्रवीयों पर नियंत्रण के लिए लाठी भांजनी पड़ी है। अभी भी इलाके में तनाव का माहौल बना हुआ है।