भगवा रंग में रंग गया है बिहार का विपक्ष : पप्‍पू यादव

146
0
SHARE

पटना : बिहार में बढ़ते अपराध, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण पर बयान और एनआरसी के सवाल पर जन अधिकार पार्टी (लो) सितंबर महीने के दूसरे सप्‍ताह से व्‍यापक तौर पर जन आंदोलन करेगी। इसको लेकर आज पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सह पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने अपने पटना स्थित आवास पर संवाददाता सम्‍मेलन बुलाया, जिसमें उन्‍होंने छपरा में दारोगा और सिपाही की हत्‍या समेत अन्‍य अपराध की घटनाओं पर सरकार को घेरते हुए पार्टी की ओर से दोनों के परिजनों को 50 – 50 हजार रूपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की।

पप्‍पू यादव ने संवाददाता सम्‍मेलन के दौरान साल 2008 से 2019 मई तक के बिहार में संज्ञेय अपराध का डाटा जारी करते हुए कहा कि नीतीश कुमार के सरकार में पिछले दस सालों में 30 हजार से अधिक हत्‍याएं हुई हैं, जिनमें 25 हजार हत्‍याएं यादव, दलित और मुसलमानों की हुई है। कागजों में दर्ज बिहार सरकार के आंकड़ों के अनुसार, एक लाख से अधिक दंगे, तकरीबन 65 हजार अपहरण और 11 हजार से अधिक बलात्‍कार की घटनाएं नीतीश कुमार के कार्यकाल में हुई। फिर भी सत्ताधारी दल के लोग कहते हैं कि बिहार में सुशासन राज है।

उन्‍होंने कहा कि जब अपराधी माफिया तय करने के लगे कि किसकी सरकार हो और जब सत्ता में बैठी पार्टी तय करने लगे कि किस अपराधी पर कार्रवाई होगी और किस पर नहीं। किस अपराधी की हत्‍या करवानी है किस की नहीं। अपराधी की जाति के आधार पर कार्रवाई होगी, तो ऐसे राज्‍य में सुशासन के राज्‍य की कल्‍पना बस किसी ख्‍वाब सा ही होगा, जिसकी आड़ में नीतीश कुमार सत्ता पर काबिज हैं। उन्‍होंने कहा कि आज बिहार के निर्वाचित 243 में से 142 विधायकों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसके अलावा राज्‍य के 29 में से 22 मंत्रियों पर संगीन आरोप दर्ज है। इसलिए हम कहना चाहते हैं कि बिहार में अपराधियों का राज है।

वहीं, आरक्षण के मुद्दे पर पप्‍पू यादव ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और पीएम नरेंद्र मोदी को नसीहत देते हुए कहा कि वे ऐसा कोई बयान न दें, जिससे सामाजिक समरसता पर खतरा हो और देश में नफरत फैले। उन्‍होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार में 60 प्रतिशत ज्‍वाइंट सेक्रेटरी बाहर से लाने की योजना है। प्राइवेटाइजेशन के बाद आरक्षण वैसे भी खत्‍म हो चुका है। यूपीएससी और बीपीएससी से आरक्षण गायब हो रहा है। 13 प्‍वांइट रोस्‍टर में आरक्षण खत्‍म हो रहा है। पिछले दरवाजे से गैर आरक्षण वालों को नौकरी देकर आरक्षण की व्‍यवस्‍था को पहले से ही खत्म किया जा रहा है। मोदी सरकार देश में सामाजिक सौहार्द का माहौल बर्बाद कर रही है। लेकिन अगर समय रहते सरकार ने इस पर गंभीरता नहीं दिखाई तो देश की गृह युद्ध की स्थिति बन जायेगी। पप्‍पू यादव ने टेक्‍स्‍टाइल उद्योग, मोटर उद्योग आदि के बंदी और देश की गंभीर आर्थिक हालत की चर्चा करते हुए कहा कि इन मुद्दों पर देश की युवाओं को सड़क पर उतरना होगा, वरना देश में भयानक आर्थिक मंदी आने वाली है।

वहीं, पटना में अति‍क्रमण हटाने के दौरान विपक्षी नेताओं द्वारा किये गए प्रदर्शन पर पप्‍पू यादव ने कहा कि विपक्ष भगवा रंग में पूरी तरह रंग चुके हैं। अयोध्‍या में राम मंदिर बनाने की भी जिम्‍मेवारी बिहार के विपक्ष को दे देना चाहिए। पप्‍पू यादव ने कहा कि अतिक्रमण के खिलाफ हम भी हैं, लेकिन उससे पहले गरीबों के लिए वैकल्पिक व्‍यवस्‍था है। बरसात के समय में गरीबों को कहीं जमीन देकर हटाने की जरूत है न कि बिना किसी व्‍यवस्‍था के सड़कों पर लाने की। पप्‍पू यादव ने एनआरसी के सवाल को भी उठाया और कहा कि एनआरसी के नाम पर बिहार और झारखंड में किसी को तंग करने की साजिश हुई तो जन अधिकार पार्टी (लो) मुंह तोड़ जवाब देगी। देश में गहरी साजिश के तहत सत्ताधारी दल गंदी राजनीति का खेल रही है। हम उनकी चाहत कभी पूरी नहीं होने देंगे। देश में गृह युद्ध और उन्‍माद की स्थिति नहीं बनने देंगे। आरक्षण के नाम पर देश की शांति टूटने नहीं देंगे।

संवाददाता सम्मेलन में पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद, प्रदेश अध्यक्ष रघुपति सिंह, राष्ट्रीय महासचिव सह प्रवक्ता प्रेमचंद सिंह, राष्ट्रीय महासचिव राजेश रंजन पप्पू, प्रदेश उपाध्यक्ष अवधेश लालू, प्रदेश प्रधान महासचिव सूर्य नारायण सहनी एवं प्रदेश महासचिव अरुण कुमार सिंह उपस्थित थे।