सहेली ने शर्मसार किया दोस्ती के रिश्ते को !

584
0
SHARE

गया समाचार : (Gaya News) गया के मानपुर स्थित नेशनल हेराल्ड पब्लिक स्कूल की छात्रा के साथ दुष्कर्म मामले में आया नया मोड़, पुलिस पर मामले की लीपापोती का आरोप। पीड़िता ने कहा उसकी सहेली ही है इस घटना की मास्टर प्लानर।

Read More Gaya News in Hindi

गया के मानपुर में नेशनल हेराल्ड स्कूल की 10वीं क्लास की छात्रा के साथ दुष्कर्म मामले में नया मोड़ आया है। न्याय नहीं मिलता देख नाबालिग छात्रा ने खुद आगे आकर अपनी आपबीती बताई। पुलिस के रवैया पर भी छात्रा तथा परिजनो ने असंतुष्टि जताई है और कहा कि पुलिस सिर्फ खानापूर्ति कर मामले को रफा-दफा करने के प्रयास में जुटी है।

छात्रा ने बताया कि वह 20 फरवरी को 9:25 में अपने घर से स्कूल के लिए बस से निकली थी। स्कूल में फेयरवेल पार्टी चल रही थी और 3:45 में स्कूल से छुट्टी होती लेकिन हमें 2:30 बजे घर जाने के लिए भेज दिया गया। पार्टी में नाश्ता किया और उसकी सहेली मीसा भारती ने पानी पिलाया। फिर स्कूल के बाहर मीसा और गिरफ्तार मन्टु जबरदस्ती ऑटो में बैठाने लगे और एक चॉमिन दुकान पर ले गए। उसके बाद धीरे-धीरे वह सेंसलेस होने लगी।

पीड़ित छात्रा स्कूल के पीछे के घर में एक लड़का को देखी थी। मीसा ने उस लड़के अभिनव को पीड़िता से मिलाया और मीसा ने बताया कि वह अभिनव को जानती है। पीड़िता लेटर लिख कर मीसा के जरिये अभिनव तक पहुंचाने के लिए दिया करती थी लेकिन मीसा लेटर अभिनव को न देकर अपने विकलांग भाई मंटू उर्फ़ अभिनव को देती थी तो मन्टु भी समझने लगा था कि वह उसे प्यार करती थी। उस दिन ऑटो में मन्टु और मीसा भारती उसे लेकर चॉमिन के दुकान के पीछे एक घर में गए थे जहां उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया। जब स्थिति बिगड़ने लगा तो मन्टु ने अपने दोस्त पिंटू को दवा लाने की बात कहा। चूंकि घटना के वक्त पीड़िता सेंसलेस थी उसे सिर्फ याद है कि 4 लोग और थे जिसका नाम वह 164 के बयान में भी बताई थी लेकिन पुलिस सिर्फ विकलांग को गिरफ्तार कर मामले की लीपापोती करने में लगी है। घटना के बाद उसके कपड़े खून से काफी भींग चुका था तब उसकी सहेली ने ही कपड़ा बदल देने की बात कही। वह कुछ-कुछ बातें सुन रही थी। उसके बाद ऑटो से लेकर झाड़ी में उसे फेंक दिया गया।

वहीं सीआरपीएफ से रिटायर हुए छात्रा के पिता ने कहा कि पुत्री के साथ हुए घटना से दु:खी हूं लेकिन पुलिस की कार्यशैली से और भी मर्माहात हूं। उन्होंने बताया कि पहले तो स्कूल प्रबंधन की लापरवाही के कारण दुष्कर्म की घटना हुई। घटना में चार युवक शामिल हैं। पुलिस विकलांग लड़का को पकड़कर लीपापोती कर रही है। इसमे मुख्य अभियुक्त पीड़िता की सहेली है जिसने सामूहिक दुष्कर्म की घटना में सबसे बड़ी भूमिका निभाई है। पुलिस हकिकत की जाँच नहीं कर रही है। विद्यालय प्रबंधन भी कोताही कर रहा है। इन्होंने चारो युवकों को फाँसी की सजा देने की माँग की है। पिता ने यह भी कहा कि घटना के बाद बेटी की हालत नाजुक थी फिर भी पुलिस उससे जबरन बयान ले रही थी। पुलिस को अब आगे आकर जाँच को सही दिशा में ले जाने की जरुरत है।तथा पूरी घटना की जाँच की मांग सीबीआई से करने को कहा है।

हम आपको बता दें कि बीते दिन मानपुर के नेशनल हेराल्ड स्कूल की 10वीं क्लास की छात्रा को नशा खिलाकर सामुहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया था। नशा के कारण वह सेंसलेस हो गयी थी लेकिन कुकृत्य को आँखो से देखने को मजबुर थी। घटना के बाद उसे मरन अवस्था में झाड़ी में फेक दिया था।