पढ़िए नीतीश की स्क्रिप्ट …

305
0
SHARE

तेजस्वी तो बहाना है, बीजेपी के साथ जाना है !

पटना उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के साथ क्या अगली कैबिनेट की बैठक करेंगे नीतीश? क्या कांग्रेस लालू से उनके बेटे का इस्तीफा दिला पाएगी? ऐसे कई सवाल हैं जो राजनीतिक गलियारे में घूम रहे हैं। इधर कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी कभी लालू के दरवाजे तो कभी नीतीश के गलियारे के चक्कर लगा रहे हैं। अशोक चौधरी के पास भी वक्त कम है। ऐसे में नीतीश लालू के बीच खाई पाटने के लिए उन्होंने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है।

लालू ने कहा कि उनके परिवार पर इतनी बड़ी मुसीबत आई पर नीतीश ने फोन कर कुशलक्षेम तक नहीं पूछा। लालू ने करीबी से ये भी कहा कि उनको पता चल गया है कि इस्तीफे के बाद भी नीतीश बीजेपी के साथ जाएंगे। पर कांग्रेस भरोसा दिला रही है कि नीतीश ऐसा कुछ नहीं करेंगे।

इधर जेडीयू कैंप में लालू के रवैये से नाराजगी है। कई नेता अब खुलकर बीजेपी के साथ जाने की वकालत कर रहे हैं। लालू के साथ रहने से नुकसान की बात कह रहे हैं। नीतीश ने अपने करीबी से ये माना कि लालू के साथ रहने से उनके वोट बैंक पर बुरा असर पड़ रहा है। फैसला तो लेना ही है।

कांग्रेस अगर बिहार के साथ-साथ देश में भी उन्हें नेता के तौर पर पेश करे तो ठीक वरना नीतीश बीजेपी के साथ जाने को मजबूर हो जाएंगे। नीतीश तेजस्वी को बर्खास्त कर जनता में ये संदेश दे सकते हैं कि वो भ्रष्टाचार से एकदम समझौता नहीं करते। कांग्रेस और लालू को बेनकाब कर बीजेपी के सहयोग से बिहार में ठाठ से सरकार चला सकते हैं।

पर कई जानकारों का मानना है कि नीतीश फूंक_फूंक कर एक_एक कदम चल रहे हैं। लालू और कांग्रेस की गलती के बाद ही वो अंतिम फैसला लेंगे। नीतीश को जब इत्मीनान हो जाएगा कि अब उनका देश के राजनीति में कोई जगह नहीं बन पा रहा है तब ही वो ऐसा कदम उठाएंगे।