पटना में जन्मे शेख दीन मोहम्मद ने इंग्लैंड में खोला था पहला भारतीय रेस्तरां

3265
0
SHARE

पटना – पटना के शेख दीन मोहम्मद एक सहायक सर्जन, यात्री, लेखक और रेस्तरां संचालक थे. उनका जन्म 15 जनवरी, 1759 को पटना में हुआ था. 1794 में 15 जनवरी को ही उनकी अंग्रेजी में लिखी पहली पुस्तक द ट्रेवल्स ऑफ़ दीन मोहम्मद का प्रकाशन भी हुआ था. एक भारतीय द्वारा अंग्रेजी में प्रकाशित यह पहली पुस्तक थी. इसके बाद वे पूरे इंग्लैंड में लोकप्रिय हो गए. उनकी किताब में चंगेज खां, तैमूर समेत मुगल शासकों के समय के युद्ध व कहानियां का रोचक वर्णन था.

इंग्लैंड में पहला भारतीय रेस्तरां खोला

1782 में दीन मोहम्मद इंग्लैंड चले गए. उन्होंने इंग्लैंड में पहला भारतीय रेस्तरां खोला था. उस रेस्तरां का नाम हिन्दुस्तान कॉफ़ी हाउस रखा गया. हालांकि, दो सालों में ही उसे बंद कर दिया गया था. उसके बाद उन्होंने स्पा खोला, जहां वे लोगों को हर्बल स्टीम देते थे. वहां चंपी मालिश भी की जाती थी. इस चम्पी को शैम्पू कहा जाने लगा.

कुछ वर्षों में मोहम्मद की चंपी पूरे ब्रिटेन और यूरोप में प्रसिद्ध हो गई. 1822 में इंग्लैंड के राजा किंग जॉर्ज चतुर्थ ने उन्हें पर्सनल चंपी सर्जन नियुक्त कर लिया. इसके बाद वे दुनिया में प्रसिद्ध हो गए. वे इंग्लैंड के ब्राइटन शहर में रहते थे. आज भी वहां के संग्रहालय में शेख मोहम्मद की कई तस्वीरें मौजूद हैं. उनकी मृत्यु 1851 में हो गयी. उनको सेंट निकोलस चर्च के एक कब्रिस्तान में दफनाया गया था. इनके आगे की पीढ़ी इंग्लैंड में ही बस गई.

शादी के लिए बदल लिया धर्म

1784 में गॉडफ्रे ने दीन मोहम्मद का नाम आयरलैंड के कॉर्क शहर के एक स्कूल में लिखवा दिया. जहाँ वे इंग्लिश लिटरेचर की पढाई करने लगे. इसी दौरान उन्हें जेन डेली नामक अंग्रेज लड़की से प्यार हो गया और उससे शादी करनी चाही पर जेन के परिवार इसके लिए तैयार नहीं हुए. तब उन दोनों ने भाग कर शादी कर ली. उस समय एक प्रोटेस्टेंट ईसाई का दूसरे धर्म में शादी करना अवैध था. इसलिए 1788 में मोहम्मद ने ईसाई धर्म अपना लिया.