गंगा बाबू के साथ ये कैसा मज़ाक ?

1360
0
SHARE

बिहार के गंगा प्रसाद चौरसिया बने मेघालय के राज्यपाल

पटना – बीजेपी का शायद ही कोई ऐसा नेता होगा जो गंगा बाबू के कोल्ड स्टोरेज पर नहीं गया हो। किसी जमाने में पटना के बेली रोड पर स्थित कोल्ड स्टोरेज में ही बड़ी-बड़ी बैठकें हुआ करती थीं। बिहार में बीजेपी की बुनियाद मजबूत करने में गंगा बाबू का बहुत बड़ा योगदान है। बिहार में सरकार बनी तो इन्हें मंत्री नहीं बनाया गया, बाद में उनके बेटे को दीघा से टिकट देकर विधायक बनाया गया। हालांकि विधान परिषद् के वो सदस्य बने रहे और जब बारी उनको इनाम देने की आई तब मेघालय का राज्यपाल बनाकर एक झुनझुना पकड़ा दिया गया। गंगा प्रसाद जैसी शख्शियत को पार्टी ने मेघालय का राज्यपाल बनाया जिसको लेकर घर में खुशी है पर दर्द अन्दर ही अन्दर है।

गंगा प्रसाद चौरसिया पहली बार 1994 में बिहार विधान परिषद के लिए निर्वाचित हुए जहां वह 18 साल एमएलसी के रूप में बने रहे। वे भाजपा के विधान परिषद में नेता भी रहे। पांच साल तक विधान परिषद में विपक्ष के नेता पद पर भी थे।

बिहार में पूर्व एनडीए शासन के दौरान, उन्होंने सत्ताधारी पार्टी के बिहार विधान परिषद में नेता के रूप में और बाद में सत्तारूढ़ दल के उप-नेता के रूप में भी सेवा दी। वर्त्तमान दीघा विधायक संजीव चौरसिया उनके बड़े पुत्र तथा छोटे पुत्र दीपक चौरसिया पटना नगर निगम में पार्षद थे, इस बार उनकी पत्नी मधु चौरसिया पार्षद हैं।

WhatsApp Image 2017-09-30 at 5.57.23 PM