इजराईल सरकार के तकनीकी सहयोग से उच्च गुणवतायुक्त होगी बागवानी -प्रेम कुमार

72
0
SHARE

पटना- बिहार के कृषि मंत्री डाॅ0 प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य के कृषकों को उद्यानिक फसलों (फल एवं सब्जी) की उच्च तकनीक की जानकारी देने एवं उच्च गुणवतायुक्त पौध रोपण साम्रगी तैयार कर उपलब्ध कराने हेतु राज्य सरकार द्वारा राज्य के वैशाली जिला के देसरी एवं नालन्दा जिला के चंडी में इजराईल सरकार के तकनीकी सहयोग से क्रमश: फल एवं सब्जी के सेन्टर आॅफ एक्सलेंस की स्थापना की गई है। इस सेन्टर आॅफ एक्सलेंस की स्वीकृति केन्द्र सरकार द्वारा केन्द्र प्रायोजित योजना राष्ट्रीय बागवानी मिशन के अधीन दी गई है, जिसमें अतिरिक्त टाॅप-अप राज्य सरकार द्वारा दी गई है।

मंत्री ने कहा कि राज्य के कृषकों को अभी तक उद्यानिक फल बाग लगाने हेतु या तो राज्य के बाहर से या किसी प्राईवेट नर्सरीयों से पौध रोपण सामग्री क्रय करना पड़ता था, जिसमें कृषकों को उनकी इच्छा के अनुरुप न तो गुणवत्ता युक्त, फल-पौधे प्राप्त हो पाते हैं और न ही प्रजाति (भेराईटी) की सही-सही जानकारी हो पाती है। फल के गुणवत्ता एवं पौधे के प्रभेद (भेराईटी) की जानकारी कृषकों को बाग लगाने के 3-4 साल बाद फलन होने के उपरांत ही हो पाता है, फलतः किसान ठगी के शिकार हो जाते है। जिससे उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ता है। इस सेन्टर के सभी संरचनाओं को अत्याधुनिक तकनीक से युक्त किया गया है, जिसमें एक समय में लाखों पौधारोपण सामग्री एवं कई लाख सब्जी बीज पौध कम कीमत में उत्पादित किया जा सकता है। सेन्टर में बुम सिंचाई पद्धति से पौधे की सिंचाई की जाती है जिसमें मानव बल की आवष्यकता नहीं होती है। इस प्रकार खेती की भी लागत को भी कम किया जा सकता है।

इस सेन्टर में उच्च गुणवत्तायुक्त फल पौध रोपण सामग्री एवं सब्जी के पौध तैयार कर कृषकों को उचित मूल्य पर उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ-साथ कृषकों हेतु उच्च तकनीकी का प्रशिक्षण भी आयोजित किया जा रहा है। दोनों सेन्टर में संरक्षित खेती के तहत बे-मौसमी फल एवं सब्जी उत्पादन का प्रत्यक्षण भी कराया गया है। इस सेन्टर से अब राज्य के कृषक अपनी मन प्रसंद प्रभेद के पौध क्रय कर बाग स्थापित कर पायेंगे एवं ठगी के शिकार होने से बचेंगे, साथ-साथ इस तकनीक को अपना खेती का लागत मूल्य भी नियंत्रित कर पायेंगे। आत्मा के द्वारा राज्य के सभी जिलों के कृषकों को इस सेन्टर को एक्सपोजर विजिट कराकर प्रशिक्षित किये जाने की योजना है। राज्य के सभी कृषक बंधु इस सेन्टर के भ्रमण कर उच्च तकनीक का ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।