जल्द शुरू होगा बख्तियारपुर-मोकामा NH-31 का मरम्मती कार्य, सरकार ने केंद्र सरकार से कर ली है बात

124
0
SHARE

PATNA: लोकसभा में जदयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह और बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार शनिवार को समीक्षात्मक बैठक में अनुमंडल कार्यालय बाढ़ पहुंचे जहां उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान बैठक से संबंधित विषयों की विस्तृत जानकारी दी और उसके अनुपालन को लेकर आश्वस्त किया.

उन्होंने बताया कि कई तरह की समस्याओं और योजनाओं पर चर्चा हुई, समीक्षा हुई. क्षेत्रीय किसानों से जानकारी मिल रही थी कि कृषि इनपुट सब्सिडी मिलने में समस्या हो रही है. बाढ़ नगरपरिषद क्षेत्र में पीने के पानी की समस्या, उमानाथ गंगा घाट पर पर्यटन विभाग ने सर्वेक्षण किया है, शवदाह गृह बनाया जाना है. इसके अलावा भी कई विकास के काम होने हैं. इन सब के समीक्षा के बाद सभी काम को एक तय समय सीमा के अंदर पूरा करने का निर्देश दिया है.

उन्होंने बताया कि बाढ़ नगरपरिषद से जुड़े कुछ मामलों में मंत्री नीरज कुमार ने अनुमंडल पदाधिकारी, बाढ़ को निर्देश दिया है कि वो नगरपरिषद की समीक्षा करें और एक विशेष रिपोर्ट दें. जरूरत पड़ने पर बिहार प्रदेश के नगर विकास विभाग से टीम भिजवाकर जांच करवाई जाएगी.

उन्होंने बताया कि बख्तियारपुर मोकामा सड़क के मरम्मतीकरण में सबसे बड़ी समस्या यह है कि यह नेशनल हाईवे है राज्य सरकार इसकी मरम्मत नहीं कर सकती. इसके रख रखाव की जिम्मेवारी भारत सरकार की एजेंसी NHAI के पास होती है. इस NH-31 पथ के मरम्मतीकरण के लिए बिहार सरकार ने भारत सरकार से बातचीत कर रास्ता निकाला है. टेंडर निकल चुका है, संभवतः कल परसों तक टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और अगले 15-20 दिनों के अंदर काम शुरू हो जाएगा.

इसी क्रम में सांसद ललन सिंह और मंत्री नीरज कुमार ने चाईना से आमने-सामने की भिड़ंत में शहीद हुए समस्तीपुर जिला के मूल निवासी अमन सिंह राजपूत के ससुराल राणा बिगहा जाकर उनके शोकाकुल परिजनों से मुलाकात कर उनका हाल जाना और शहादत को गौरवपूर्ण बताते हुए सांत्वना दिया. मालूम हो कि मुख्यमंत्री ने चीन से भिड़ंत में शहीद होने वाले शहीदों के परिवार से एक आश्रित को सरकारी नौकरी देने के साथ-साथ 36 लाख रुपए अनुग्रह अनुदान देने का निर्णय लिया है.

इस दौरान सांसद और मंत्री बाढ़ विधानसभा क्षेत्र के शहरी ग्राम जाकर स्व. वीरेंद्र महतो पिता- बंसी महतो के परिजनों से मुलाकात की जिनकी परसों हत्या कर दी गई थी. शोकसंतप्त परिवार को उन्होंने आश्वस्त किया कि हत्यारे जल्द ही कानूनी गिरफ्त में होंगे. कानून का राज है, कितना भी बड़ा सूरमा हो कोई बच नहीं सकता.