अनुमंडल अस्पताल मोहनिया में भगवान भरोसे हैं मरीज

244
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – सरकार ने ग्रामीणों के लिए अस्पतालों में कई प्रकार की सुविधाएं चला रखी है, लेकिन फिर भी अस्पताल प्रशासन के मनमानी से लोगों को लाभ मिलता हुआ नहीं दिखाई दे रहा है। कैमूर जिले के अनुमंडल अस्पताल मोहनिया में मरीज भगवान भरोसे हैं। सरकार की सारी सुविधाएं इस अस्पताल में दम तोड़ती हुई नजर आती है। दरअसल एक एक्सीडेंटल मरीज देर रात्रि ग्रामीणों द्वारा इलाज के लिए अनुमंडल अस्पताल मोहनिया लाया गया। जहां इलाज कर मरीज को चिकित्सकों ने दवा के साथ घर ले जाने की सलाह दी। लेकिन मरीज की हालत इस कदर था कि मरीज अपने पैरों के बल जाने में असमर्थ था। मरीज के परिजनों ने अनुमंडल अस्पताल मोहनिया में उपलब्ध चिकित्सकों से एंबुलेंस की सहायता मांगी। जिससे कि मरीज को उसके घर तक पहुंचाया जा सके। लेकिन चिकित्सक एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं करा पाए। एक घंटे तक एंबुलेंस की गुहार लगा कर थक चुके परिजनों ने समान ढोने वाला ठेला (सगड़ी) लाया और उसी पर मरीज को लेटा कर घर ले गए।

परिजनों ने बताया कि अपने लड़के को एक्सीडेंट होने के बाद लाए थे। जहां पैरों के बल चलकर वह घर जाने में सक्षम नहीं था। जब एंबुलेंस की सहायता मांगा तो नहीं मिला। वहीं चिकित्सक बताते हैं कि हर मरीज को जो अपने पैरों के बल घर जाने में सक्षम नहीं होते हैं वैसे मरीजों को एंबुलेंस देने का प्रावधान है।