अवैध उगाही का जरिया बना शराबबंदी कानून

536
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – बिहार सरकार की शराबबंदी कानून दुधारू गाय हो गई है। कैमूर जिले के उत्पाद विभाग अक्सर शराबबंदी कानून का धौंस दिखाकर पैसा वसूलने की मामले में सुर्खियों में रहता है। चार माह पहले भी उत्पाद विभाग भभुआ द्वारा झूठा केस में फंसाने के मामले में तत्कालीन एसपी हरप्रीत कौर ने उत्पाद विभाग के एक अधिकारी सहित दो सैफ के जवान को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

अब ताजा मामला 31 अक्टूबर की रात की है। बक्सर के रहने वाले दो व्यवसाई अपने अल्टो कार से बनारस से मोहनिया की तरफ आ रहे थे, तभी उत्पाद विभाग की टीम ने दुर्गावती थाना क्षेत्र के पिपरा मोड़ के पास एनएच 2 पर गाड़ी का पीछा कर जब गाड़ी की तलाशी ली तो शराब नहीं मिला। तो दोनों व्यवसाइयों के पास रहे दो स्मार्टफोन और छब्बीस सौ रुपया छीन लिया, और 20 हजार रुपया और लाकर देने के बाद मोबाइल ले जाने की बात कही। दोनों व्यवसाई को शराबबंदी कानून का धौंस इतना दिखा दिया गया जिससे कि दोनों दहशत में आ गये। दोनों को जेल जाने, गाड़ी जब्त होने और बेल नहीं होने का धौंस पूरी तरह दिखाया गया।

इतने से जी नहीं भरा तो उन लोगों ने व्यवसाई से सादे कागज पर हस्ताक्षर कराकर और 20 हजार रुपया लाने की बात कह कर छोड़ दिया गया। अगले दिन से रुपया लाने के लिए कई बार व्यवसाई के मोबाइल पर फोन किया गया। फिर व्यवसायी ने घटना की जानकारी भभुआ एसडीपीओ को दिया। भभुआ एसडीपीओ ने दोनों को दुर्गावती थाने भेजा। प्राथमिकी दर्ज कराया और जब पुलिस ने अनुसंधान शुरू किया तो उत्पाद विभाग के ड्राइवर जैसे ही पैसा लेने के लिए व्यवसाई के पास आया तो उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसके साथ रहे उत्पाद विभाग के इंस्पेक्टर सतेंद्र कुमार, सन्नी सिपाही, दो होमगार्ड के जवान भाग खड़े हुए।

पुलिस के जांच में उत्पाद विभाग के गाड़ी से व्यवसाई का दोनों मोबाइल बरामद हुआ और ड्राइवर ने स्वीकार किया कि इन लोगों से गलत तरीके से पैसा लिया जा रहा था। 26 सौ पहले ले लिया गया था और 20 हजार रुपया लाने के लिए कहा गया था। हमारे नंबर से ही उत्पाद विभाग के सब इंस्पेक्टर सतेंद्र कुमार व्यवसायी को फोन कर पैसा मांग रहे थे।

वहीं मोहनिया डीएसपी रघुनाथ सिंह ने बताया कि व्यवसायी के बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर लिया गया है, उत्पाद विभाग के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है। इन लोगों ने इन व्यवसायियों से पैसा तो लिया है। जिसमे पांचो लोग जो ड्यूटी में थे दोषी हैं। उसी रात एक सफारी से शराब पकड़ाया था तो उसमें दो लोगों की गिरफ्तारी हुई थी जिसमें एक लोगों को उत्पाद विभाग ने जेल भेज दिया और दूसरे को छोड़ने के लिए चालीस हजार रुपया लिया और एक को छोड़ा। जांच चल रहा है। सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। फिलहाल ड्राइवर को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है, और इस कांड में संलिप्त रहे और चार लोगों को गिरफ्तार कर जल्दी जेल भेजा जायेगा।