फर्जी चालान लेकर ट्रक छुड़वाने आया ड्राइवर गिरफ्त में

295
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिले में एंट्री माफिया इस कदर हावी हैं कि अधिकारी द्वारा पकड़े वाहनों के छुड़ाने के लिए फर्जी कागजात बनाकर चालकों को दे देते हैं और अधिकारी द्वारा फाईन किए गए रुपए को डकार जाते हैं। यह एंट्री माफिया चेक पोस्ट के आसपास अपना झुग्गी झोपड़ी लगाकर दिखावे में तो दुकान चलाते हैं लेकिन असल में यह लोग गाड़ियों को अवैध तरीके से पार कराने का मुख्य रूप से काम करते हैं ऐसा ही मामला प्रकाश में आया।

बालू लदे ओवरलोड वाहन को परिवहन विभाग के अधिकारी ने पकड़ कर चेक पोस्ट के गोदाम में लगा दिया, जिसके 2 दिन बाद छुड़ाने का दो नंबर का कागजात लेकर वाहन का चालक परिवहन के गोदाम पर पहुंचा जब उसके कागजात की जांच की गई तो पुराने रसीद को फोटो कॉपी करा कर पुराने गाड़ी का नंबर मिटा कर जप्त गाड़ी का नंबर लगा दिया और चालक को दलाल अभिषेक ने दे दिया गाड़ी छुड़ाने के लिए। जैसे ही इसकी जानकारी परिवहन विभाग के प्रवर्तन अवर निरीक्षक अनिल सिंह को पता चला तुरंत गोदाम के पास पहुंचकर कागजात की जांच किए और ड्राइवर को मोहनिया थाना के सुपुर्द किया।

ड्राइवर ने बताया कि मेरी गाड़ी डेहरी से बालू लोड कर फैजाबाद के लिए जा रही थी तभी मोहनिया चेक पोस्ट के पास ओवरलोडिंग में पकड़ा गया। 10 टन बालू ओवरलोड है। एक दलाल ने गाड़ी छुड़ाने की बात कह कर मालिक से अपने खाते में पैसा मंगा लिया और फर्जी कागजात देकर बोला कि मैंने फाइन जमा कर दिया है, जाकर गाड़ी छुड़ा लो और जब गोदाम पर पहुंचा तो साहब कागज देख कर पकड़ कर थाने पर लाए। चेक पोस्ट पर ओवर लोडिंग के खेल में एंट्री माफिया इतना सक्रिय दिख रहे कि जिला प्रशासन को भी आँख में धूल झोंक के फर्जी आरटीओ और फर्जी खनन अधिकारी बन करोड़ो के राजस्व को चुना लगा रहे है और सरकार का नुकसान कर रहे हैं।