जब प्यार किया तो डरना क्या ! 3 बच्चों की माँ से मजनू ने ब्याह रचाई

231
0
SHARE

कटिहार – ये कहावत तो सबने सुनी होगी, ‘ये इश्क नहीं आसान, बस इतना समझ लीजिए आग का दरिया है और डूब कर जाना है’! जी हां इस कहावत को सच कर दिखाया एक प्रेमी युगल ने। मामला
कुर्सेला थाना क्षेत्र के कुर्सेला बस्ती की है। जहां एक युवक ने 3 बच्चों की माँ से ब्याह रचा ली।

दरअसल युवक के साथ विवाहिता पकड़ी गई, भीड़ में हुआ इंसाफ। भीड़ ने प्रेमी के साथ सड़क पर विवाहिता की करा दी शादी। आनाकानी करने पर प्रेमी युवक की हुई पिटाई उसके बाद हुआ वरमाला और प्रेमी ने प्रेमिका के मांग में भर दिया सिंदूर।

मजनू बने युवक को गाँव की ही शादीशुदा तीन बच्चों की माँ चांदनी से प्यार हो गया। गाँव में दोनों के प्यार का विरोध पहले भी कई बार हो चुका था। पंचायत भी हुई थी लेकिन ये दोनों लैला मजनू मौका मिलते ही एक दूसरे के साथ राधा कृष्ण बन जाते थे। ग्रामीण मौके की तलाश में थे, दोनों को मौके पर ग्रामीणों ने धर लिया फिर क्या था, समूचे गाँव के ग्रामीण एकजुट होकर मजनू गोपाल और लैला चांदनी के प्रेम रहस्य का फैसला गाँव के सड़क पर ऑन स्पॉट कर दिया। वरमाला के साथ-साथ सिंदूर का भी व्यवस्था ग्रामीणों ने किया हुआ था।

कहानी में यू टर्न तब आया जब लैला चांदनी अपने अपने साथ एक बच्चे को गोद में लेकर अपने मजनू से शादी कर लेना चाह ही रही थी कि मजनू ने बरमाला के रश्म के बाद आनाकानी कर दिया, गले में डाले बरमाला को गले से उतार दिया। फिर क्या था ग्रामीणों ने मजनू की धुनाई कर दिया। धुनाई के बाद मजनू को अक्ल आई और गोद में लिए बच्चे लैला के मांग में पांच बार सिंदूर डाला। बारात बनकर बीच सड़क पर खड़े ग्रामीणों ने सिंदूरदान के बाद लैला मजनू का स्वागत ताली बजाकर किया।

पकड़े गए लैला मजनू की खबर कुर्सेला थानाक्षेत्र के कुर्सेला बस्ती में आग की तरह फैल गई। चांदनी के दो छोटे-छोटे बच्चे और चांदनी का पति संजय मंडल भी लैला मजनू को देखने भीड़ में पहुंच गए। चांदनी के दोनों बच्चों ने अपनी डिजिटल माँ के प्यार को देख पिता के साथ ही रहने की बात बताया तो वहीं लैला चांदनी का पूर्व पति संजय चांदनी और गोपाल की शादी कर लेने पर कोई आपत्ति नहीं जताते हुए अपने दोनों बच्चों को साथ रखने को राजी थे।

सड़क पर हुई शादी के बाद ग्रामीणों ने जब लैला मजनू की सहमति जानना चाहा तो दोनों ने अपनी सहमति हां में दे दिया। दोनों लैला मजनू तेज धूप में छाता के नीचे निकल गए अपने आशियाने की ओर और इस नवदम्पत्ति को देखने पीछे से दौड़ते रहे सैकड़ो ग्रामीण।