कृषि बिल पर विपक्ष के झांसे  में नहीं आएंगे किसान -राजीव रंजन

111
0
SHARE

PATNA: जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने चुनाव तारीखों के एलान का स्वागत करते हुए कहा कि बिहार में महागठबंधन लगभग बिखर चुका है। धीरे-धीरे करके अलग अलग घटक राजद से अलग हो रहे हैं और गठबंधन के अंदर हम पार्टी के बाद एक दूसरे घटक के द्वारा तेजस्वी यादव को नीतीश कुमार के मुकाबले में विकल्प के तौर पर नहीं मानने के बाद अब एक बार फिर साफ हो गया है। कि जल्द दूसरे बड़े फैसले भी दिखेंगे। जब महागठबंधन के अलग-अलग घटक निकलते चले जाएंगे।

राजीव रंजन ने कहा जनता पहले ही राजद के खिलाफ है और महागठबंधन बिखर रहा है। जबकि राजद के अंदर नेताओं और कार्यकर्ताओं का पलायन लगातार जारी है। इसीलिए इस चुनाव में नीतीश कुमार के नेतृत्व में जो आंधी चल रही है उसका सामना करने में तथाकथित महागठबंधन पूरी तरह से विफल है। और उसकी बेबसी साफ-साफ उनके नेताओं और कार्यकर्ताओं के बौखलाहट और हताशा से दिख रही है।

राजीव रंजन प्रसाद  ने कहा कि कृषि बिल पर हमारी पार्टी का स्टैंड बिल्कुल साफ है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह साफ शब्दों में कह दिया है कि एपीएमसी एक्ट तो बिहार में 2006 में ही खत्म हो गया। और उसके बाद बिहार में खेती और खेती से जुड़े लोगों को कोई कठिनाई नहीं हुई है। इसलिए की राज्य सरकार ने गेंहू और धान की खरीद की व्यवस्था कराई। किसानों की जिंदगी को खुशहाल बनाने की दिशा में लिया गया यह एक बड़ा फैसला है। बार-बार इस सवाल पर विपक्ष अगर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है तो उसे जरूर बताना चाहिए कि अगर देश में कृषि के हालात बहुत अच्छे थे। और परंपरागत कृषि का स्वरूप बेहतर था तो इतनी बड़ी संख्या में किसानों ने आत्महत्या क्यों की? उनकी अवस्था इतनी बुरी क्यों रही?