शरद को नीतीश नहीं, लालू पसंद

374
0
SHARE

पटना शरद यादव को नीतीश नहीं, लालू पसन्द है। आज शरद यादव अपने तीन दिवसीय यात्रा पर पटना पहुंचे। उन्होंने साफ किया कि वे महागठबंधन के साथ हैं। उन्होंने बताया कि बीजेपी का अलग मेनिफेस्टो था, महागठबंधन से बिलकुल अलग। जनता आज भी महागठबंधन के साथ है। पत्रकारों से हवाई अड्डे पर बात करते हुए कहा कि राजनीति में विश्वास का संकट पैदा हो गया है।

शरद ने कहा कि ग्यारह करोड़ जनता को आघात पहुंचा है, उनके दिल पर चोट लगी है। हम यहां कुछ नहीं बोलेंगे। सब बातें जनता के बीच होंगी। हमने जो जनता से करार किया था वो टूटा है।

उन्होंने बताया कि उन्हें भी वर्त्तमान हालात पर तकलीफ है। हमने भी चालीस साल बिहार का दौरा किया है। गठबंधन पांच साल के लिए किया था। हमारे गठबंधन का अलग मेनिफेस्टो था, बीजेपी का अलग मेनिफेस्टो। जो बिहार में हुआ, वैसा पहली बार हुआ है और इतिहास में ऐसा कोई उदाहरण नहीं दिखता।

दो गठबंधन आमने-सामने हों और दोनों के मेनिफेस्टो अलग हों और वो बीच में ही दूसरे से मिल जाए, इतना बड़ा लोकशाही में विश्वास का संकट है। इस सकंट को जनता के बीच जाकर ही ठीक करेंगे। आज भी गठबंधन के साथ हूं। जनता दल के कुछ मित्रों से हमनें कहा है। कार्यकर्ता महागठबंधन का है। इसमें मेरी कोई तैयारी नहीं है।

शरद के स्वागत में पटना एयरपोर्ट पर लगे लालू शरद ज़िंदाबाद तो नीतीश मुर्दाबाद। शरद यादव के स्वागत में जेडीयू के नेता रमई राम भी पहुंचे थे। वो हवाई अड्डे से अंदर से शरद के साथ बाहर निकले। शरद के पटना आने से पहले एयरपोर्ट पर लालू समर्थकों का जमावड़ा था। नीतीश कुमार को हिटलर बताकर नारेबाजी कर रहे थे। आरजेडी नेता और पूर्व एमएलसी रामबदन राय अपने समर्थकों के साथ पहले से मौजूद थे।

शरद यादव को मिला लालू का साथ नहीं मिला कांग्रेस का हाथ

बिहार में नीतीश की अगुआई में एनडीए सरकार बनने के बाद शरद यादव आज पहली बार पटना पहुंचे। गिने-चुने समर्थक ही आगवानी के लिए पटना एयरपोर्ट पहुंचे। उसमें अधिकांश समर्थक लालू के थे। शरद यादव ने पटना में ऐलान किया कि वो महागठबंधन के साथ आज भी हैं। लेकिन जैसे ही उनकी गाड़ी गंगा नदी पार की तो जबरदस्त बारिश शुरू हो गई। बारिश में ही लालू समर्थकों ने शरद और लालू के जयकारे लगाए। सोनपुर में एक मंच तैयार था जहां आरजेडी विधायक रामानुज प्रसाद पहले से मौज़ूद थे। उनका नाम मंच से पुकारा गया पर वो भाषण नहीं दिए। शरद यादव ने नीतीश पर तंज कसा और कहा कि जेडीयू में सरकारी दल है। जिसमें मुख्यमंत्री और मंत्री हैं। वहीँ पूर्व मंत्री रमई राम को छोड़ कोई विधायक या सांसद मिलने तक नहीं आया।

शरद के लिए लालू ने अपने समर्थकों से कह रखा है कि उनका जगह-जगह स्वागत करें। ऐसे में समर्थकों में भी जोश था। शरद के सामने नीतीश मुर्दाबाद के नारे लगे। शरद जानते हैं कि नीतीश उनके खिलाफ कार्रवाई करने वाले हैं। ऐसे में वो भी बचकर बयान दे रहे हैं।