हाजीपुर में कोटक महिंद्रा के लीगल एडवाइजर को गोलियों से भूना

483
0
SHARE

पटना: कोटक महिंद्रा के एक लीगल एडवाइजर की हाजीपुर में गोली मार हत्या कर दी गई। घटना शुक्रवार रात 11 बजे के बाद की है जब मृतक पटना से हाजीपुर लौट रहे थे। इसी बीच अपराधियों ने गोली मार कर उनकी हत्या कर दी।

मृतक की पहचान कर लिया है। 35 वर्षीय पंकज कुमार मूल रूप से दरभंगा जिले के जमालपुर थाना के परसरामा गांव के रहने वाले थे और हाजीपुर नगर थाना के बागमली मोहल्ले में अपने पिता कैलास प्रसाद सिंह के साथ अपने मकान में रहते थे। उनके पिता हाजीपुर कोर्ट में जज के आदेशपाल हैं।

यह घटना उस समय हुई जब शुक्रवार की रात 11 बजे के करीब पंकज पटना से बाइक से लौट रहे थे। जैसे ही वे नगर थाने के न्यू बाईपास पर रामभद्र मोहल्ले के पास पहुंचे, पहले से घात लगाये अपराधियों ने उनके सिर पर धारदार हथियार से वार किया जिससे वे गिर गए। उनका हेलमेट भी क्षतिग्रस्त हो गया। उसके बाद अपराधियों ने उनके सिर में पीछे से एक गोली मार दी। एक गोली पीठ में भी मारी गई।

गोली की आवाज सुनकर मोहल्ले के लोग घरों से बाहर निकले और पुलिस को सूचना दी। लोग पंकज को उठाकर हाजीपुर सदर अस्पताल लाये जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

हैरानी की बात यह कि पंकज की जेब में पड़े 10 हजार रुपये और मोबाइल को अपराधियों ने नहीं छुआ। इस घटना की जानकारी मिलते ही घर में कोहराम मच गया। पत्नी सोनी सिंह का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।

शनिवार की सुबह पंकज के शव का सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम किया गया और परिजनों को सौंप दिया गया। घटना से आक्रोशित लोगों ने कुछ देर के लिए ग़ांधी चौक को जाम कर दिया। सदर एसडीपीओ राशिद जम्मा और नगर थानाध्यक्ष सुनील कुमार के समझाने के बाद लोग जाम हटाये। बाद में शव को दरभंगा जिले के पैतृक गांव परसरामा ले जाया गया।

वहीं पंकज की पत्नी ने आरोप लगाया कि इधर कुछ दिनों से उनके पति का अपने बॉस व कोटक महिंद्रा के पदाधिकारी से किसी बात को लेकर विवाद चल रहा था।
एसडीपीओ का कहना है कि पुलिस कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। जल्द ही अपराधी पकड़े जाएंगे। यह पता चला है कि पंकज अपना एक डेरा पटना में भी रखे हुए थे और शनिवार को हाजीपुर आया करते थे। उनकी मां निर्मला देवी छठ कर रही थीं। इसलिए वे छठ की सामग्री लेकर शुक्रवार को हाजीपुर आ रहे थे।