शराब की तलब ने पुलिसवालों को बनाया अपराधी !!

679
0
SHARE

कैलाश कश्यप
सिवान: सिवान में आज पुलिस का असली चेहरा देखने को मिला है। एक तरफ जहां बिहार की सरकार ने शराबबंदी को लेकर नियम और कानून का बहुत ही सख्ती से साथ पालन करने का संकल्प लिया है। वहीं दूसरी ओर सिवान पुलिस शराब नष्ट करने के बहाने अपने लिए शराब इकट्ठा करने में लगी है। शराब नष्ट करने के सिवान जिले के पुलिसिया सच को देख आप भी हैरान रह जाएंगे।

सिवान पुलिस शराब को नष्ट करने के बहाने अपने पीने के लिए शराब के जुगाड़ में लग गई। यह वाकया देखने को मिला सिवान के पुलिस लाइन में। जब पुलिस लाइन में जब्त शराब को गाड़ियों में लाद कर पुलिस लाइन लाया गया तो शराब को पहले नष्ट करने के बजाय अपने लिए शराब पुलिसकर्मियों ने पुलिस की गाड़ी में ही सीट के बगल में रख दिया ताकि इस शराब की बोतल पर किसी का ध्यान न जाए और वे लोग आसानी से शराब के नशे में चूर होकर शराबबंदी की जमकर धज्जिया उड़ाएं।

हालांकि थोड़ी देर के बाद सिवान के जिलाधिकारी महेंद्र कुमार और पुलिस अधीक्षक सौरभ कुमार शाह पुलिस लाइन पहुंचे जहाँ उन दोनों अधिकारियों के समक्ष शराब नष्ट करने का कोरम पूरा किया गया। हालांकि जब सिवान के एसपी सौरभ कुमार शाह से इस पूरे मामले पर पूछा गया कि शराब नस्ट करने के बजाय कुछ पुलिसकर्मियों को शराब छुपाकर पुलिस वाहन में रखते देखा गया तो उन्होंने कहा कि आप लोगों से हमें सूचना मिल रही है। जांच कर जो भी इस तरह के पुलिसकर्मी घिनौना कार्य किए होंगे, उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

अब जिस तरह से सिवान की पुलिस इस शराबबंदी योजना की खुलेआम धज्जियां उड़ा रही है, ऐसे में क्या आपको लगता है कि इस तरह के भ्रष्ट पुलिसकर्मीयों द्वारा नशाबंदी की योजना को सफल बनाया जा सकेगा? शायद नहीं। इसलिए जरूरत है इन भ्रष्ट पुलिसकर्मियों पर शख्त कार्रवाई करने की ताकि बिहार सरकार की जो मंशा है वो उसमें कामयाब हो सके।