डीएम, एसपी खुद बाढ़ राहत शिविर का खाना खाकर कर रहे हैं जाँच

777
0
SHARE

मधुबनी: बिहार में आई भीषण बाढ़ ने सभी ओर तबाही मचा दी है। बाढ़ के समय सभी की निगाहें सरकारी सहायता पर टिकी रहती है। आमतौर पर सुदूर क्षेत्रों में सरकारी सहायता की सारी जवाबदेही निचले स्तर के पदाधिकारी की होती है, कोई भी बड़े पदाधिकारी सुदूर क्षेत्र में नही आतें हैं और सबसे अधिक लोगों का आक्रोश भी उन्हें ही झेलना पड़ता है लेकिन मधुबनी जिले का हाल कुछ अलग है।

मधुबनी जिले के युवा डीएम शीर्षत कपिल अशोक एवं एसपी दीपक वर्णवाल बाढ़ राहत का ना सिर्फ जायजा ले रहे हैं बल्कि खुद बाढ़ राहत शिविर का खाना खाकर जाँच भी कर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि डीएम शीर्षत कपिल अशोक एवं एसपी दीपक वर्णवाल जब खाना खा रहे थे, उस वक्त वहां कोई मीडियाकर्मी मौजूद था, वे जब राहत शिविर में खाना खा रहे थे, उस वक्त वहां एक आम आदमी ने उनका खाना खाते हुए वीडियो बना लिया। डी एम एवं एसपी दीपक वर्णवाल बेनीपट्टी के पाली गाँव के राहत शिविर में खाना का जायजा लेने पहुँचे थे जहाँ सैकड़ो लोग खाना खा रहे थे। डीएम एवं एसपी ने स्वयं खाना खाकर खाने की गुणवत्ता देखा। अगले दिन डीएम एवं एसपी एक अन्य जगह से जब गुजर रहे थे तो उन्होंने वहां सरकारी खाने की गुणवत्ता की पुनः जाँच की। डीएम एवं एसपी ने बताया कि सड़क से गुजरते वक़्त रेंडमली किसी भी बाढ़ राहत कैम्प का खाना हम खा लेते हैं, इससे आम जन को भी खाने की गुणवत्ता सही मिलती है, कोई दिक्कत नहीं होती है। डीएम एवं एसपी ने बताया कि मैं स्वयं खाना की गुणवत्ता जाँच करने के लिए खाना खाया जिससे जाँच भी हो गयी और हमारा पेट भी भर गया। खाना इतना अच्छा बनता है कि हम तो टिफिन भी नहीं ले जाते हैं।