सरकार बताये पत्रकार पेंशन योजना का क्या हुआ: नंदकिशोर यादव

253
0
SHARE

कहा-पेंशन की आस में स्वर्ग सिधार चुके हैं कई पत्रकार
पड़ोसी राज्यों में पत्रकारों को मिल रही है अनेक सुविधाएं

पटना 23 जुलाई 2017। बिहार विधान सभा की लोक लेखा समिति के सभापति और वरिष्ठ भाजपा नेता नंदकिशोर यादव ने कहा है कि बिहार के सेवा निवृत पत्रकारों के लिये बनी पत्रकार पेंशन योजना खटाई में फूल रही है। पेंशन की राशि के लिये लोकतंत्र के चौथे प्रहरी सारे दस्तावेजों को जमाकर दर-दर की ठोकरे खा रहे हैं। पेंशन की आस में कई पत्रकार भगवान के प्यारे भी हो चुके हैं ।

श्री यादव ने आज यहां कहा कि श्री जीतन राम मांझी के मुख्यमंत्रितत्व काल में सूबे के सेवानिवृत पत्रकारों को पांच हजार मासिक पेंशन देने की योजना को मंजूरी दी गई थी प्रथम चरण में यह योजना पांच वर्ष के लिये है। निर्णय के दो वर्ष बीत चुके हैं लेकिन एक भी रिटायर पत्रकार को पेंशन की राशि नसीब नहीं हुई है। जबकि उत्तर प्रदेश, राजस्थान, छतीसगढ़, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश में सेवा निवृत पत्रकारों को न केवल पेंशन के मद में यथोचित राशि दी जा रही बल्कि उनके लिये आवास, मेडिकल और राजकीय बसों में भी सुविधा दी जा रही है ।

श्री यादव ने कहा कि बिहार के पत्रकारों को राज्य के सरकारी लाल बसों में पहले पत्रकारों को रियायत दी जाती थी इसे बंद कर दिया गया। हल्की बीमारी के लिये इस वर्ग के लिये अस्पतालों में कोई सुविधा नहीं है, आवास या भूखंड देने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने पड़ोसी राज्यों में कार्यरत और सेवानिवृत पत्रकारों को मिल रही सरकारी सुविधाओं को बिहार में भी देने और बिहार पत्रकार पेंशन योजना 2015 को अविलंब लागू करने की सरकार से मांग की है।