नरेंद्र मोदी रेल महादुर्घटना और बैंक की कतारों में मरने वालों का जिम्मेदार: राजद

841
0
SHARE

पटना: राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष रामचन्द्र पूर्वे, प्रधान महासचिव सह विधायक मुन्द्रिका सिंह यादव एवं प्रदेश प्रवक्ता मनीष यादव ने कानपुर देहात जिला के पुखरायां में इंदौर-पटना एक्सपे्रस में भीषण रेल हादसे में मरने वाले 96 लोगों एवं 250 से अधिक घायलों के जानमाल के नुकसान पर दल की ओर से अपनी अश्रुपूरित संवेदना व्यक्त की है।

नेताओं ने पीड़ित परिवारों के साथ संवेदनाएं और दुआएं व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में यात्रियों का देहावसान दुर्घटना नहीं महादुर्घटना है। केंद्र सरकार के रेल यात्री किराया और मालभाड़ा में अप्रत्याशित और मनमाने ढंग से वृद्धि के बावजूद यात्री सुरक्षा और सुविधाएं नगण्य रही। रेल राज्यमंत्री का यह बयान कि रेल पटरियों की देखरेख के अभाव में रेल दुर्घटना संभव है। रेलवे का दोहन-षोषण और लूट की ओर इशारा करता है। भीषण रेल महादुर्घटना ने नरेंद्र मोदी सरकार के बुल्लेट ट्रेन की जुमलेबाजी की भी पोल खोल दी है।

उन्होंने कहा कि केंद्र की नीतियों की विफलता का परिणाम है कि आज देश भर में अराजकता और अफरा-तफरी का माहौल है। आम आदमी की जिंदगी नासूर बनती जा रही है। बार्डर पर सर्जिकल स्ट्राइक की असलियत है कि रोज सीमाओं पर सैनिक मर रहे हैं। काला धन पर सर्जिकल स्ट्राइक की हकीकत है कि 55 लोग बैंक की कतार में मर गए और सरकार कोई राहत न देकर कतारों में मरे लोगों के साथ आतंकियों जैसा सलूक कर रही है और सीना चैड़ाकर अपनी संवेदनहीनता और आर्थिक नाकेबंदी का जश्न मना रही है। किसान कर्ज में डूबकर मर रहे हैं। रेल महादुर्घटना से पूरा देश मर्माहत है। प्रधानमंत्री और रेल मंत्री महज मामूली मुआवजे और जांच की घोषणा कर अपनी जिम्मेवारी से बच नहीं सकते।

नेताओं ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु के इस्तीफे की मांग की एवं महादुर्घटना की न्यायिक जांच की मांग करते हुए सभी मृतक के परिजनों को बीस-बीस लाख रूपया मुआवजा और घायलों को दो-दो लाख रूपया मुआवजा एवं मुफ्त समुचित ईलाज की मांग की।