बिहार-नेपाल सीमा पर नेपाल कर रहा हेलीपैड का निर्माण, जानें क्या है पूरा मामला

323
0
SHARE

BAGHA: भारत से सटे गांवों में नेपाल हेलीपैड का निर्माण कर रहा है। जिसकी खबर के बाद भारतीय खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट कर दिया है। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक वाल्मीकिनगर से सटे एवं आसपास में नेपाल ने तीन हेलीपैड बनाया है। नेपाल की ओर से इसे बाढ़ राहत वितरण को कारण बताया गया है। जबकि उन इलाकों को बाढ़ प्रभावित मानने से खुफिया विभाग ने इंकार किया है। इसे हाल के दिनों में नेपाल से हुए कड़वाहट और चीन की साजिश से जोड़कर देखा जा रहा है। सूचना के बाद पहले से सील चल रहे नेपाल बॉर्डर पर SSB हाई अलर्ट पर है।

सूत्रों के मुताबिक नेपाली क्षेत्र में नवलपरासी जिला अंतर्गत तीन हेलीपैड तैयार हो रहा है। जो पहला हेलीपैड तैयार किया गया है वह नरसही सुस्ता मामले के विवादित जमीन के पास नरसही गांव से सटे है। दूसरा हेलीपैड की जो सूचना दी गई है वह गंडक नदी के किनारे त्रिवेणी आर्मी कैंप के पास है। तीसरा हेलीपैड उत्तर प्रदेश के महाराजगंज जिले के पास 8 किलोमीटर की दूरी पर उज्जैनी गांव में बनने की सूचना है।

भारतीय खुफिया एजेंसी ने बिहार और केंद्र सरकार को इसकी सूचना भेज दी गई है। हेलीपैड के निर्माण किए जाने के लोगों के प्रश्न पर बाढ़ जैसी राहत वितरण सामग्री को लेकर बताया है लेकिन जिस इलाकों में यह हेलीपैड बन रहा हैवही  भारतीय खुफिया एजेंसी में इलाकों को बाढ़ प्रभावित मानने से इनकार कर दिया है।

ऐसे में हाल के दिनों में नेपाल से हुए कड़वाहट और चीन की साजिश को जोड़कर देखा जा रहा है। इस मामले को वही संयुक्त राष्ट्र महासंघ के नियम नियमावली के मुताबिक नेपाल एक बफर स्टेट है। इस देश पर कोई आक्रमक हमला और चढ़ाई जैसी नहीं करने का सोचता है। ऐसे में हेलीपैड का निर्माण यह दर्शाता है कि भारत का  नंबर वन दुश्मन ड्रैगन यानी चाइना नेपाल की तत्कालीन सरकार को ड्रैगन से ज्यादा ही प्रेम है। कहीं ऐसा तो नहीं ड्रैगन के इशारे और कूटनीति के नेपाल हेलीपैड का निर्माण करवा रहा है।