NMC बिल के विरोध में डॉक्टरों ने किया हड़ताल, मरीज परेशान

122
0
SHARE

पटना – जहां एक तरफ आपदा की इस घड़ी में सरकार ने बिहार के सभी जिलों को मेडिकल अलर्ट घोषित किया है। वहीं डॉक्टर NMC बिल के विरोध में राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर उतर आए हैं। इसका असर पटना के अस्पतालों में भी देखने को मिल रहा है।

पटना के विभिन्न अस्पताल जैसे पीएमसीएच, आइजीआइएमएस, एनएमसीएच के डॉक्टर NMC बिल का कड़ा विरोध कर रहे हैं। इस कारण से सभी अस्पतालों की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। दूर-दूर से आए मरीज के परिजन हलकान और परेशान हो रहे हैं।

पटना के आईजीआईएमएस में डॉक्टरों ने एनएमसी बिल को लेकर प्रदर्शन किया और सभी ओपीडी सेवाएं ठप कर दी। वहीं दूसरी तरफ एनएमसीएच में डॉक्टरों ने स्वास्थ्य सेवाएं ठप कर दी हैं। डॉक्टरों का कहना है कि सरकार इस बिल को लाकर हम डॉक्टरों के साथ नाइंसाफी कर रही है। एमबीबीएस की पढ़ाई करने में कुल 5 साल का समय लगता है लेकिन एनएमसी बिल के लागू हो जाने के बाद 6 महीने में डॉक्टर की उपाधि मिल जाएगी और आप समझ सकते हैं कि वैसे डॉक्टर की क्या अहमियत होगी? वह डिग्री लेकर गांव देहात में अपना क्लीनिक खोल लेंगे जिससे कि मरीज बेमौत मारे जाएंगे। इस बिल के आ जाने के बाद 6 महीने में 3 लाख 75 हज़ार डॉक्टर तैयार हो जाएंगे। इससे हमारे देश का भविष्य क्या होगा।

वहीं मरीज के परिजनों का कहना है कि सरकार और डॉक्टर की लड़ाई में हम लोग अक्सर पीस जाते हैं। हम लोग दूर-दूर से आते हैं इस आस में कि आज हमारा अस्पताल में इलाज होगा लेकिन डॉक्टरों के इस रवैया से हमें परेशानी झेलनी पड़ती है।