शराबबंदी के बाद अब दहेजबंदी की बारी- नीतीश कुमार

619
0
SHARE

एक बार फिर से हम लोगों को गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने की जरूरत है। शराब की वजह से समाज लगातार बर्बाद हो रहा था, इसलिए इसे बिहार में बंद करने का निर्णय लिया गया। शराबबंदी के बाद अब नशा मुक्ति पर भी हम काम कर रहे हैं।

Read More Bihar News in Hindi

हमारी अगली कोशिश दहेज मुक्त बिहार बनाने की होगी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को पटना में चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह के शुभारंभ के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होने कहा कि बिहार को दहेज मुक्त करने के साथ ही बाल विवाह पर भी रोक लगाने को लेकर काम जारी है।

Read More Patna News in Hindi

उन्होने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि महात्मा गांधी के विचारों को न मानने वाले लोग भी आज उनके शताब्दी समारोह मना रहे हैं। महात्मा गांधी को सिर्फ नोटो पर छाप देने से काम चलने वाला नहीं है। उनके विचारों और सिधांतो को भी आत्मसात करना होगा। कार्यक्रम के दौरान नीतीश कुमार ने साईकिल योजना की भी चर्चा की और इसे भी एक सामाजिक बदलाव का कारक बताया। इस कार्यक्रम में गोपालकृष्ण गांधी, चंद्रशेखर धर्माधिकारी, प्रेरणा देसाई, मेधा पाटेकर, रजी अहमद, राजेंद्र सच्चर, सच्चिदानंद, टी सुब्बा राव, तेजस्वी यादव, अशोक चौधरी भी मौजूद रहे।

Read More Bihar News

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अब बिहार में शराबबंदी के बाद दहेज बंदी की बारी को लेकर मुहिम छेड़ दी है। उनका मानना है कि समाज में सुधार किये बगैर देश और राज्य का विकास संभव नहीं है। ऐसे में अब बिहार में शराबबंदी के बाद अगला परिवर्तन दहेज मुक्ति को लेकर देखने को मिल सकता है।

Read More पटना समाचार