स्कूलों में किताब, यूनिफॉर्म और स्टेशनरी की बिक्री एफिलेशन की शर्तों का खुलेआम उल्लंघन- सीबीएसई

136
0
SHARE

सीबीएसई यानि सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन ने अपने एफिलिटेड स्कूलों को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि निजी स्कूल व्यवसाय करना छोड़ गुणवतापूर्ण शिक्षा पर ध्यान दें।

Read More Bihar News in Hindi

स्कूलों में किताब, बच्चों की ड्रेस और स्टेशनरी बेचना बंद करें। बोर्ड ने गुरुवार को एडवाजरी जारी कर कहा कि बोर्ड से जुड़े शिक्षा संस्थान कोई व्यवसायिक प्रतिष्ठान नहीं है। स्कूलों में किताब, यूनिफॉर्म और स्टेशनरी की बिक्री एफिलेशन की शर्तों का खुलेआम उल्लंघन हैं। स्कूलों को भेजे गए पत्र में बोर्ड ने कहा है कि अभिभवाकों की ओर से मिल रही शिकायतों को उसने गंभीरता से लिया है और स्कूलों को यह कड़ा निर्देश है कि वह अभिभवाकों को पुस्तकें, नोटबुक, स्कूल ड्रेस, जूते बस्ते आदि स्कूल परिसर अथवा चुनिंदा विक्रेताओं से खरीदने के लिए बाध्य न करे। शर्तों के अनुसार स्कूल सामुदायिक सेवा है और यह कारोबार नहीं है।

Read More Patna News in Hindi

इसलिए किसी भी रूप में स्कूल में व्यवसायिक गतिविधियां नहीं होनी चाहिए। स्कूलों का एकमात्र उद्देशय गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध करना होना चाहिए। बोर्ड ने स्कूलों को अपने उस निर्देश का भी संज्ञान दिलाया है जिसमें केवल राष्ट्रीय शिक्षा अनुसंधान एवं प्रशिक्षण की ओर से प्रकाशित पुस्तकों को ही कोर्स में शामिल किया जाएं।