ओवरलोडेड गाड़ियों के अभियान के नाम पर खुलेआम पैसों की लूट

297
0
SHARE

कैमूर – अधिकारी कहते हैं कि कैमूर जिले में ओवरलोडिंग को लेकर बहुत ही कड़ा अभियान है। जो भी बालू लदे ओवरलोडेड गाड़ियां जाती हैं, बिना ओवरलोड का फाइन कटाये कैमूर जिला होते हुए न तो ओवरलोड बालू लदे गाड़ियां प्रवेश करेंगे और ना ही कहीं जा पाएंगे। लेकिन ठीक इसके विपरीत जो दिखा वह हैरान करने वाला था। गौरतलब है कि जिले के कुदरा थाना क्षेत्र के पछाहगंज के पास बीती रात ड्यूटी पर तैनात रहे कुदरा पुलिस के जवान ने ओवरलोड बालू लदे गाड़ियों को जाने देने के नाम पर खुलेआम ट्रक चालकों से मनमाना पैसा ले रहा था, जिसका पैसा लेते लाइव विजुअल कैमरे में कैद हो गया। जब ड्यूटी पर तैनात अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई तो अधिकारी वहां से रफू-चक्कर हो गए।

वहीं ट्रक मालिक आरोप लगा रहे हैं कि यह कोई एक दिन का पुलिस वालों का पैसे उगाही का मामला नहीं है, ट्रक वाले से प्रतिदिन बिना पैसा लिए कुदरा थाना के सीमा क्षेत्र से ओवरलोड ट्रक आगे नहीं जा सकते हैं। जो भी ट्रक वाला ऐसा दुस्साहस दिखाता है तो ड्यूटी पर तैनात रहे दरोगा गाड़ी का फाइल छीनकर उस गाड़ी का परिवहन और माइनिंग से जुर्माना भरवाने के नाम पर साठ-सत्तर हजार का खर्च दिखाते हैं जिससे वाहन मालिक डर कर मोटी रकम देने को मजबूर हो जाता है, फिर गाड़ियां वहां से गुजरती है। इस ओवरलोडेड गाड़ियों के अभियान के नाम पर खुलेआम पैसों का लूट मचा हुआ है। इसमें दरोगा से लेकर बड़े अधिकारी तक मालामाल हो रहे हैं।

ट्रक मालिकों का यह भी आरोप है कि पुलिस सारा काम छोड़कर पैसे की उगाही करने में एनएच-2 पर लगा हुआ है। एक रात में जो कुदरा पुलिस के गस्ती का टीम होता है एक लाख रूपये के लगभग अवैध कमाई करता है। जिसमें उनके साथ रहे सभी सिपाहियों को एक दिन में पंद्रह से बीस हजार रुपये तक हिस्सा के रूप में मिलता है, और कुदरा पुलिस के सिपाही एनएच-2 के थानों पर अपनी ड्यूटी लगाने के लिए संबंधित अधिकारियों से पैरवी भी करते हैं। हालांकि इस मामले में कोई कार्रवाई अबतक नहीं हुई है।