शिक्षा और परीक्षा व्‍यवस्‍था हुई चौपट : पप्‍पू यादव

68
1
SHARE

न्‍यायिक टीईटी संघ के तत्‍वावधान में आयोजित मार्च में हुए शामिल
परीक्षा व्‍यवस्‍था में सुधार की मांग की

पटना। जन अधिकार पार्टी (लो) के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा है कि राज्‍य में शिक्षा व्‍यवस्‍था पूरी तरह चौपट हो गयी है। परीक्षा मजाक बन गयी है और सरकार छात्रों के भविष्‍य के साथ खिलवाड़ कर रही है। आज पटना में न्‍यायिक टीईटी संघ के तत्‍वावधान में आयोजित विरोध मार्च और प्रदर्शन के दौरान मीडिया से चर्चा में उन्‍होंने कहा कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की लापरवाही और मनमानी के कारण हर परीक्षा और रिजल्‍ट के बाद विवाद शुरू हो जाता है। बीईटीईटी परीक्षा के परिणाम से उग्र और नाराज छात्रों का प्रदर्शन परीक्षा व्‍यवस्‍था की नाकामी का प्रमाण है।

बीईटीईटी परीक्षा के परिणाम में गड़बड़ी और गलत प्रश्‍नों के विरोध में परीक्षार्थियों द्वारा आर्ट कॉलेज, पटना से बिहार बोर्ड के कार्यालय तक आयोजित प्रदर्शन और मार्च में शामिल होकर सांसद यादव ने अपना समर्थन जताया और उचित मांगों को स्‍वीकार करने का आग्रह भी सरकार से किया। यादव ने कहा कि परीक्षा आयोजित करने वाली संस्‍थाओं में नकारे लोग बैठे हुए हैं, जिन्‍हें न विषय की समझ है और न पाठ्यक्रम की जानकारी है। वैसे लोग गलत प्रश्‍न सेट करने के साथ ही गलत उत्‍तर पुस्तिका भी जारी कर देते हैं। इसका खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ता है। उन्‍होंने कहा कि ऐसी व्‍यवस्‍था से नाराज लोग जब सड़क पर उतरते हैं तो पुलिस लाठीचार्ज करती है और उनके साथ दुर्व्‍यवहार करती है।

सांसद ने कहा कि जन अधिकार पार्टी (लो) बदहाल शिक्षा व्‍यवस्‍था के खिलाफ आंदोलन करेगी। शिक्षा के नाम पर हो रही लूट का विरोध करेगी। शिक्षा माफिया, मेडिकल माफिया और ठेका माफिया के खिलाफ पार्टी निरंतर संघर्ष कर रही है और आगे भी करती रहेगी। उन्‍होंने राज्‍य सरकार से कहा कि शिक्षा और परीक्षा व्‍यवस्‍था को दुरुस्‍त किया जाए, ताकि बिहार के छात्रों के भविष्‍य से कोई खिलवाड़ नहीं कर सके। वहीं, न्‍यायिक टीईटी संघ द्वारा सरकार से की गई मांगों का सांसद ने समर्थन किया। वे प्रमुख मांगे हैं-
1. प्रश्‍न पत्र में जितने प्रश्‍न गलत हैं उतना अंक परीक्षार्थियों के रिजल्‍ट में जोड़ कर फिर से जारी किया जाए।

2. ओमएमआर शीट में जिन – जिन प्रश्‍नों के उत्तर में वाईटनर लगा हुआ है उसको छोड़कर बाकी प्रश्‍नों का मूल्‍यांकन करते हुए रिजल्‍ट जारी किया जाए।

3. आंसर की में भी कई प्रश्‍नों के उत्तर गलत हैं और उसी के आधार पर पूरा रिजल्‍ट जारी किया गया है। इसलिए उसको सुधार कर फिर से रिजल्‍ट जारी किया जाए।

4. सामान्‍य महिलाओं को 5% टीईटी में आरक्षण दिया गया है। इसी आधार पर ओबीसी व एससी/एसटी महिलाओं को भी 5% दिया जाए।

5. शिक्षा विभाग के पत्रांक -283 दिनांक 28.03.2013 के अनुसार, ओबीसी को 83 अंको पर पास घोषित किया जाए।