पासवान की हालत स्थिर, सीएम नीतीश ने अस्पताल में की मुलाकात

635
0
SHARE

पटना: केंद्रीय मंत्री और लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान की हालत अब स्थिर है। सांस लेने में दिक्कत होने के बाद कल देर शाम पटना के एक अस्पताल के आइसीयू में भर्ती कराये गये थे। यह जानकारी उनका उपचार कर रहे चिकित्सकों ने आज दी। पासवान के स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चिकित्सकों से स्वयं बात की और उन्हें देखने पारस अस्पताल गये।

पढिये अन्य प्रमुख पटना समाचार

राज्यपाल रामनाथ कोविंद एवं राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने भी पासवान के स्वास्थ्य की जानकारी ली। लालू प्रसाद अपने बेटों तेजस्वी यादव एवं तेज प्रताप यादव के साथ पासवान को देखने के लिए पारस अस्पताल गये।

पासवान को पारस एचएमआरआइ अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अस्पताल की हृदयरोगविज्ञान इकाई के प्रमुख डॉक्टर प्रमोद कुमार ने कहा कि पासवान जी का स्वास्थ्य अब स्थिर है। कुमार चिकित्सकों के उस दल में शामिल हैं जो 70 वर्षीय मंत्री के स्वास्थ्य पर नजदीक से नजर रख रहा है।

पढिये अन्य प्रमुख बिहार समाचार

मंत्री का उपचार कर रहे दल के एक अन्य सदस्य एवं एम्स पटना के डॉक्टर संजीव कुमार ने भी कहा कि पासवान का स्वास्थ्य अब स्थिर है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों का एक दल उनका उपचार कर रहा है।

पासवान के विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) आरसी मीणा ने कहा कि पासवान का उपचार कर रहे चिकित्सकों की सिफारिशों के अनुसार मंत्री को दिल्ली ले जाने के संबंध में कोई भी निर्णय आज बाद में लिया जाएगा।

लोजपा के प्रवक्ता अशरफ अंसारी ने कहा कि पासवान का स्वास्थ्य बिगड़ने की सूचना पाने के बाद पार्टी कार्यकर्ता अस्पताल में एकत्र हो रहे हैं। रामविलास के भाई एवं लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने बताया था कि केंद्रीय मंत्री को सांस लेने में दिक्कत महसूस होने पर कल रात करीब 8.30 बजे अस्पताल लाया गया और उन्हें आइसीयू में भर्ती कराया गया।

केंद्रीय खाद्य एवं जनवितरण मंत्री पासवान इससे पहले राज्य के चार दिवसीय दौरे पर कल यहां पहुंचे थे। इस दौरान उन्हें पटना, खगड़िया, बेगूसराय एवं मोकामा में राजनीतिक प्रतिबद्धताओं को पूरा करना था। इसके बाद उन्हें 15 जनवरी को पटना में मकर संक्रान्ति पर भोज आयोजित करना था।

एम्स पटना के डॉक्टर संजीव कुमार ने कल रात कहा था कि पासवान के शरीर में ऑक्सीजन की कमी के कारण उनके हृदय का बायां हिस्सा (लेफ्ट वेंट्रिकुलर फेलियर) प्रभावित हुआ था लेकिन अब उनकी हालत स्थिर है। उपचार का उन पर असर हो रहा है।