मिठाई नहीं ज़हर है ये, भूल कर भी मत खाइए

229
0
SHARE

मुजफ्फरपुर – जिले में नकली मिठाई बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड़ हुआ है. घरों में होने वाले रंग का प्रयोग किया जा रहा है रंगीन लड्डू में. दिपावली के अवसर पर दुकानों मे लड्डू की आपूर्ति का ठेका लेकर नकली लड्डू बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी राजेश कुमार ने किया है. नगर थाना क्षेत्र के महाराजी पोखर में एक भाड़े के मकान में चलाया जा रहा था यह फैक्ट्री.

चने की जगह मटर का बेसन इस्तेमाल हो रहा है, वह भी रंगा हुआ. छापेमारी के दौरान फैक्ट्री से मटर के बेसन के भरे हुए बोरे बरामद हुए. बेसन में मैदा और आटा मिलाकर उसमें रंग मिलाया जाता था. घरों को रंगने में इस्तेमाल होने वाले गेरूआ रंग को मिलाकर लड्डू को चटक रंग दिया जाता है.

खुले आकाश के नीचे तैयार होता है बुंदिया. खुले आकाश के नीचे बिना किसी सुरक्षा मानकों के बुंदिया तैयार करते कारीगर ने बताया कि शहर के सभी बड़ी दुकानों मे इसी तरह लड्डू बनाया जाता है.

और तो और जाले लगे बदबूदार कमरे में पैक होता है लड्डू. तीन कमरे के इस फैक्ट्री में जाला लगा हुआ है और कारीगर बगैर हाथों मे ग्लव्स पहने लड्डू को बनाने में जुटे हैं.

खाद्य सुरक्षा पदाधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि बगैर मानक को पूरा किये और बिना किसी लाईसेंस के ये लोग लड्डू का निर्माण कर रहे हैं. सभी सैंपल को सील कर जांच के लिए भेजा जा रहा हैै. इसमें फाईन और सजा के साथ फाईन दोनों का प्रावधान है. जांच रिपोर्ट के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी.

बहरहाल दिपावली के अवसर पर दुकानों में चटक रंगों के लड्डू को लोग खासतौर पर पसंद करते हैं. कारण लक्षमी गणेश की पूजा में लड्डू का विशेष महत्व होता है. पर पूजा में लड्डू के मांग को देखते हुए कुछ लोग लड्डू के नाम पर जहर बेच रहे हैं.