बिहार राज्य उच्चतर माध्यमिक शिक्षक संघ को मिला पूर्व मंत्री अब्दुलबारी सिद्दीकी का समर्थन

101
0
SHARE

पटना – बिहार राज्य उच्चतर माध्यमिक अतिथि शिक्षक संघ की ओर से पटना के गर्दनीबाग में एकदिवसीय धरना का आयोजन किया गया, जिसकी अध्‍यक्षता संघ के प्रदेश अध्‍यक्ष नरेंद्र कुमार ने किया और संचालन संघ के महासचिव डॉ विपिन बिहारी ने किया। इस दौरान अतिथि शिक्षक संघ ने शिक्षा मंत्री द्वारा किये वादे के अनुसार, सरकार से 72 घंटे की भीतर नियोजन में समायोजन कर राज्य के 4203 कार्यरत +2 अतिथि शिक्षकों की सेवा बहाल करने की आधिकारिक घोषणा की मांग की। इस मौके पर पूर्व मंत्री सह राजद के वरिष्‍ठ नेता अब्‍दुलबारी सिद्दिकी ने भी धरना स्‍थल पर पहुंच कर अतिथि शिक्षकों को अपना समर्थन दिया।

संघ के प्रदेश अध्‍यक्ष नरेंद्र कुमार ने कहा कि विगत 17 जुलाई 2019 को बिहार के शिक्षा मंत्री श्री कृष्णनंदन वर्मा के सरकारी आवास का घेराव के बाद उनके बुलावे पर संघ के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के वार्ता के बाद शिक्षा मंत्री द्वारा दिये गए आश्वासन पर विस्तार से चर्चा की गई, जिसमें उन्होंने कहा था कि +2 कार्यरत अतिथि शिक्षकों (जिनकी संख्या 4203 है) को उनकी सेवा 60 वर्ष नियमित करते हुए दक्षता परीक्षा का मौका प्रदान करने के फैसले पर सरकार विचार कर रही है। इसकी आधिकारिक घोषणा सरकार एक सप्ताह के अंदर करेगी। लेकिन एक सप्ताह होने के बाद भी सरकार की ओर से कोई घोषणा नहीं की गई, जिससे बिहार राज्य उच्चतर माध्यमिक अतिथि शिक्षक संघ को बाध्य होकर आंदोलन का निर्णय करना पड़ रहा है।

वहीं, संघ के उपसंरक्षक बबन यादव ने कहा कि जब तक अतिथि शिक्षकों की मांग सरकार द्वारा मान नहीं ली जाती, तब तक यह आंदोलन चलता रहेगा। धरना में पूर्व विधान पार्षद आजाद गांधी, प्रो. गुलाम गौस, पूर्व मंत्री सह पाज प्रदेश अध्‍यक्ष अखलाक अहमद, संघ के नेता दीपक कुमार, अजीत कुमार लोहिया, संघ के 38 जिलाध्‍यक्ष के साथ संघ के तमाम वरिष्‍ठ नेता मौजूद रहे।