वीआईपी एक साल में ही प्रदेश की राजनीति में मुख्यधारा की मजबूत पार्टी में शामिल हो गई है- मुकेश सहनी

84
0
SHARE

पटना : ‘विकासशील इंसान पार्टी’ आगामी बिहार विधान सभा चुनाव को ध्‍यान में रखकर राज्‍य के सभी 243 विधानसभा में पंचायत तथा बूथ स्तर कमिटी निर्माण कर रही और पार्टी ने 40 से अधिक सीटों पर जीत दर्ज कर महागठबंधन को मजबूत करने का लक्ष्‍य भी तय किया। इस कार्य में पार्टी के नेता तथा पदाधिकारी निरंतर सक्रिय हैं। पार्टी ने 2020 विधानसभा में जन-जन के हक़-अधिकार की आवाज बुलंद करने का भी लक्ष्य रखा है। उक्‍त बातें आज वीआईपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी ने पार्टी के एक साल के कामकाज की समीक्षात्‍मक बैठक के बाद बुधवार को पटना के बीआईए हॉल में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही। उन्‍होंने कहा कि आगामी फ़रवरी माह से बिहार विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर वे खुद बिहार दौरा शुरू करेंगे और बिहार के अतिपिछड़ा समाज का उचित प्रतिनिधित्‍व सुनिश्चित करेंगे।

इस दौरान सन ऑफ़ मल्लाह मुकेश सहनी ने कहा कि विकासशील इंसान पार्टी जनता की पार्टी है। यह लगातार बिहार में पिछड़ों, अतिपिछड़ों, दलितों तथा शोषितों की लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि अत्यंत कम समय में ही पार्टी ने जनता के दिल में जगह बनाई है तथा इसे बिहार की जनता का अभूतपूर्व समर्थन मिल रहा है। आज वीआईपी बिहार की मुख्यधारा की पार्टियों में शामिल है तथा प्रदेश के राजनीतिक गलियारे में अत्यंत मजबूती के साथ अपनी धमक स्थापित कर रही है। वर्ष 2018 मे 4 नवंबर को पटना के गांधी मैदान में लाखों समर्थकों की उपस्थिति में ‘विकासशील इंसान पार्टी’ की बिहार की राजनीति में धमाकेदार इंट्री हुई थी। वीआईपी एक साल में ही प्रदेश की राजनीति में मुख्यधारा की मजबूत पार्टी में शामिल हो गई है। वीआईपी 1 साल में प्रदेश के गांव-गांव में अपनी विचारधारा को पहुंचाने में कामयाब हुई है।

उन्होंने कहा कि एक साल में ही वीआईपी का बिहार की राजनीति में स्थान तथा दखल अत्यंत महत्वपूर्ण हो गया है। हरेक मोर्चे पर हजारों की संख्या में छात्र-युवा, नौजवान तथा हर वर्ग के लोग पार्टी से जुड़कर इसे मजबूती प्रदान कर रहे हैं। वीआईपी की विचारधारा आज बिहार के कोने-कोने में पहुँच गई है तथा प्रदेश में माकूल राजनीतिक हस्तक्षेप कर रही है। वीआईपी ने एक साल के अन्दर ही लोकसभा चुनाव तथा बिहार विधानसभा उपचुनाव में अपनी राजनीतिक शक्ति को दिखा दिया है। 2019 के लोकसभा चुनाव में हमने महागठबंधन में 3 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे। साथ ही बिहार विधानसभा उपचुनाव में सिमरी-बख्तियारपुर में अतिपिछड़ा की पार्टी बनते हुए अतिपिछड़ा समाज की लोकप्रिय पार्टी के रूप में उभरी। वीआईपी ने उपचुनाव में महागठबंधन के प्रत्याशी की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका में रही।

सन ऑफ़ मल्लाह ने कहा कि सिमरी-बख्तियारपुर में हमने 25000 से ज्यादा वोट प्राप्त किया जिस कारण राजद ने जीत हासिल किया। वीआईपी पर राज्य के अतिपिछड़ा समाज ने भरोसा जताकर नीतीश कुमार को सीधा संदेश दिया है कि वे एकजुट होकर वीआईपी के साथ हैं। हम अतिपिछड़ा समाज के इस विश्वास को कायम रखेंगे तथा 2020 विधानसभा चुनाव में भाजपा-नीतीश सरकार को सत्ता से बेदखल करेंगे। इस सेमीफाइनल में जनता ने 2020 चुनाव के संकेत दे दिए हैं।

मुकेश सहनी ने कहा कि उपचुनाव में बिहार की जनता ने उनकी सरकार की पोल खोलते हुए भाजपा-जद(यू) गठबंधन को चारों खाने चित कर दिया है। 2019 में EVM में धांधली की बदौलत उन्होंने हमें हराया, यह इस उपचुनाव में प्रमाणित हो गया है तथा 2020 के चुनाव में बिहार से इनका सूपड़ा साफ हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जननायक कर्पूरी ठाकुर के बाद किसी ने भी अतिपिछड़ा समाज की विरासत को आगे नहीं बढ़ाया। समाज ने वीआईपी पर भरोसा जताया है तथा हम इस विरासत को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाएंगे। साथ ही हम सुनिश्चित करेंगे कि 2020 के आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में अतिपिछड़ा(पचपनिया) समाज को 70-75 सीट मिले तथा उपमुख्यमंत्री अतिपिछड़ा समाज से ही हो।

पत्रकारों के सवाल के जवाब में सन ऑफ मल्लाह ने कहा कि जो लोग वीआईपी को छोटा(छोटी पार्टी) साबित करने पर आमदा थे उनको करार जवाब मिला है। 2019 में सिमरी-बख्तियारपुर में एनडीए को करीब 94000 वोट मिले थे तथा हमें लगभग 53000। मगर इस उपचुनाव में एनडीए 55000 पर सिमट गई तथा महागठबंधन ने 97000 वोट प्राप्त किया। यह जनता का हमारे ऊपर विश्वास तथा उनके मूड को भलीभांति दर्शाता है। उन्होंने कहा कि अतिपिछड़ा समाज का महागठबंधन पर भरोसा कायम करने की दिशा में हम तेजी से अग्रसर हैं तथा अतिपिछड़ा समाज का उचित प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करेंगे।

इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव छोटे सहनी,प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौहान, युवा प्रदेश अध्यक्ष गौतम बिंद, राष्टीय उपाध्यक्ष बैद्यनाथ सहनी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ब्रह्मदेव चौधरी, बरिष्ट नेता संतोष कुशवाहा, आनंद मधुकर यादव, सुरेश मुखिया, किशन चौधरी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुरेश सहनी, युवा नेता मुकेश कुमार सहनी, बेगूसराय जिलाध्यक्ष जय जयराम सहनी,बिरेन्द्र बहादुर सिंह, सिकंदर केवट, सहित पार्टी के दर्जनों नेता उपस्थित रहे।