डिनर टेबल पर नीतीश कुमार और अमित शाह के बीच बिहार को लेकर हुई जमकर बातचीत

266
0
SHARE

पटना – बीती रात बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मेजबानी में डिनर का आयोजन नीतीश कुमार के आवास पर किया. जिसपर सभी विरोधी दलों की नजरें टिकी थीं कि डिनर टेबल पर उन दोनों के बीच सीट शेयरिंग जैसे गंभीर मुद्दे पर क्या बात होगी. नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता और मंत्रियों को डिनर पर बुलाया। जेडीयू के नेता और राज्य सभा सांसद आरसीपी सिंह, मंत्री ललन सिंह, मंत्री बिजेंद्र यादव, बीजेपी से प्रदेश अध्यक्ष नित्यानन्द राय, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव, बीजेपी के संगठन मंत्री नागेंद्र, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे डिनर टेबल पर थे शामिल. जानकारी के अनुसार डिनर टेबल पर नीतीश कुमार और अमित शाह के बीच बिहार को लेकर जमकर बात हुई.

चारा घोटाला, 7 निश्चय योजना, बिहार में बिजली की स्थिति, लोक निवारण कानून, दलाई लामा, बोध गया विस्फोट और दलाई लामा के चयन सहित कई मामलों पर चर्चा हुई. दोनों के बीच सियासी मुद्दों पर बंद कमरे में हुई बातचीत, वहां कोई और मौजूद नहीं थे. बिजली पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि किस तरह से ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने बिहार में टीम भेजकर बिजली क्षेत्र में काम कराया. गया बम ब्लास्ट पर उन दोनों के बीच हुई बातचीत जिसके दौरान दलाई लामा के चयन सम्बंधित बातें हुई. उसके बाद लोक शिकायत निवारण कानून के बारे में जब नीतीश कुमार ने बताया तो अमित शाह ने पूछा कि क्या इस कानून से मुकदमा कम हुआ है? नीतीश ने आंकड़े गिनाए और बताया कि इससे आम लोगों को कितना फायदा हुआ है. अमित शाह ने नरेद्र मोदी मॉडल की तारीफ की तो डिनर पर जेडीयू नेताओं ने नीतीश मॉडल का गुणगान अमित शाह के सामने किया.

प्रदेश जदयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने साफतौर पर कुछ न कहते हुए केवल अच्छे माहौल में हुई बातचीत और अच्छे खाने के इंतजाम के बारे में कहा. जदयू और बीजेपी के रिश्ते सुधरने पर उन्होंने इतना ही कहा कि हम आशावादी हैं और आशावादी लोग निराश होकर बात नहीं करते. जब उनसे भाषण के दौरान नीतीश कुमार की तारीफ न करने पर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसपर कोई टिप्पणी नहीं करना है नीतीश कुमार अपने तारीफ के लिए लालायित नहीं रहते, उनकी तारीफ तो नरेंद्र मोदी करते हैं.

दूसरी तरफ नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर नीतीश और अमित शाह के बीच हुई डिनर पर तंज कसते हुए कहा कि अमित शाह के साथ डिनर करने के बाद नीतीश कुमार ने अपने पसंदीदा साथी गिरिराज सिंह एंड कंपनी के साथ मिलकर महिलाओं के प्रति बढे अपराध, भ्रष्टाचार, और एक साल में हुए 5 हजार घोटाले का ज़िक्र करे बिना साम्प्रादायिकता के खिलाफ लड़ाई तेज कर दी है.