कांग्रेसी नेता सेक्युलरिज्म का चोला पहनकर वोट बैंक की पॉलिटिक्स करते हैं – आरके सिंह

197
0
SHARE

भोजपुर – केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री व आरा सांसद आरके सिंह बड़े ही आक्रामक रूप में नजर आए। उन्होंने एक साथ दो विरोधी दलों के नेताओं और कश्मीर के अंदर मस्जिदों में बैठे मुल्लाओं पर जमकर निशाना साधा। उनके निशाने पर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, शशि थरूर व जम्मू कश्मीर की पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती तीनों ही थे। वहीं कश्मीर के बिगड़ते हालात में वहां के लोगों को भड़काने का हाथ मस्जिदों में बैठे मुल्लाओं पर लगाया है।

उन्होंने आरा में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कश्मीर के अंदर मस्जिद में बैठे मौलानाओं पर कहा कि वहां के मस्जिदों में बैठने वाले मुल्लाएं भारतीय कश्मीरी नहीं है बल्कि वह विदेशी हैं। कश्मीर में पहले सेकुलरिज्म था। वहां के मौलाना पूजा-पाठ करते थे लेकिन उनको हटाकर अलगाववादियों व विदेशी ताकतों के द्वारा मस्जिदों में विदेशी मुल्लाओं को बैठा दिया गया। जर्जर मस्जिदों को बनाने के नाम पर और फंडिंग का हवाला देकर विदेशी ताकतों और कट्टरपंथियों ने इन विदेशी मुल्लाओं को कश्मीर की मस्जिदों में बैठाया है जो हर शुक्रवार को मस्जिद में नमाज के नाम पर वहां के लोगों को भड़काने का काम करते हैं।

आरके सिंह ने शशि थरूर के भारत हिन्दु पाकिस्तान वाले विवादित बयान पर कहा कि शशि थरूर द्वारा दिया गया बयान मूर्खतापूर्ण बयान है इन लोगों को आज से नहीं वर्षों-वर्षों से यह लोग ऐसी भावना से प्रेरित कर रहे हैं कि जैसा हिंदू होना गुनाह है। हम हिंदू हैं यह कहना गुनाह है। यह कहां का इंसाफ है। हम लोग हिंदू हैं तो अपने आप को हिंदू ही न कहेंगे। लेकिन यह लोग ऐसा समाज में माहौल बना दिए हैं कि हिंदू कहना ही अब गुनाह लगने लगा है। यही कारण है कि कांग्रेस से जनता का मोह भंग हो गया और उनका जनाधार खिसक गया है। यह लोग सेकुलरिज्म का चोला पहनकर वोट बैंक की पॉलिटिक्स करते हैं। यह लोग एक वर्ग विशेष के वोट के लिए काम करते हैं।

इस दौरान उन्होंने राहुल गांधी को भी नही बख्शा। उन्होंने राहुल गांधी पर कहा कि कर्नाटक गए थे तो मंदिर-मंदिर घूमकर जनेऊ पहने थे अब वो मौलानाओं के टोपी पहन रहे हैं। ये दोनो लोग गलत तरीके से आजादी के बाद से गंदी राजनीत करते आ रहे है। वहीं पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती के केंद्र के तोड़फोड़ व कश्मीर में और सलाउद्दीन पैदा होंगे के बयान पर कहा कि हम लोग धमकियों से डरने वाले नहीं हैं और कश्मीर में जो उपद्रव कर रहे हैं वो पूरी तरह टेररिस्ट हैं वो कुछ ही संख्या में है। उनका कहना कि हम अलगाववादी है हम जेहादी है अब ये खेल खत्म हो चुका है। हम उनकी ही भाषा में उनको मुंह तोड़ जवाब दे रहे हैं और आगे भी देते रहेंगे। सोशल मीडिया के जरिए मुसलमान भाइयों को भड़काने का जो खेल ये लोग खेल रहे थे इस्लामिक कंट्री के नाम पर तालिबानी और जेहादी ग्रुप का कारनामा अब उजागर हो चुका है।