सारण के देवेश को राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

586
0
SHARE

छपरा: जरूरतमंद बच्चों की सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले सारण के देवेशनाथ दीक्षित को राष्ट्रपति भवन के दरबार हॉल में सोमवार को आयोजित एक समारोह में भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने एक लाख रुपया, स्मृति चिन्ह और प्रसास्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस पुरस्कार वितरण समारोह की शुरुआत राष्ट्रीय गान से किया गया। मालूम हो कि महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय के द्वारा इस साल पूरे हिंदुस्तान से कुल तीन लोगो का चयन इस पुरस्कार के लिए किया गया था। जिसमें बिहार के सारण से देवेश दीक्षित चयनित हुए थे।

जरूरतमंद बच्चों के मददगार है देवेश

फरवरी 1963 में सारण के दरियापुर प्रखंड के बेला गांव में जन्मे इस सारण के सपूत देवेश दीक्षित की पहचान गरीब, तिस्कृत, अनाथ, भूले भटके और कुपोषित बच्चों के मददगार के रूप में है। इन्होंने करीब 50 वैसे नवजात शिशुओं को जीवन दान दिया है जिन्हें किसी कारण से उनके मां बाप पैदा होते ही जंगल झाड़ियों में फेंक दिए थे। इसके अलावा इन्होंने 245 बच्चों को बाल श्रम से मुक्त कराया था। करीब 300 बच्चों को प्रकृतिक आपदा से बचाया, लगभग 20 बच्चों को बाल विवाह के चंगुल से निकाले थे। लगभग 250 बच्चों को नशाखोरी से मुक्त कराया और 15 बच्चों को असाध्य रोग से ग्रसित तथा 150 कुपोषित बच्चों का जीवन बचाया।

Read more Saran News in Hindi

इसके अलावा भी श्री देवेश ने स्कुल नही जाने वाले करीब 1000 बच्चों को स्कुल तक पहुंचाया। पिछले 9 साल के अंदर लगभग सवा लाख बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाकर पोलियो से सुरक्षा प्रदान की है।