राखी: भाई बहन का प्यार, कोरोना बना दीवार

215
0
SHARE

jehanabad: कोरोना के कहर, सामाजिक व आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप हो गई हैं। कोरोना महामारी ने हमारे पर्व त्योहारों व पौराणिक परम्पराओं पर भी असर डाला है। कोरोना महामारी ने एक तरह से भाई बहनों के अटूट प्यार की निशानी रक्षाबंधन जैसे त्योहारों की रौनकता पर ग्रहण लगा दिया है। सामान्य दिनों में रक्षाबंधन आने के 20 दिन पहले से ही हाट बाजार में राखी की दुकानें सज जाती थी। लेकिन इस बार कोरोना प्रकोप के कारण त्योहार से एक दिन पूर्व महज चंद के लिये ही दुकान खोलने की अनुमति मिली है। और अनुमति मिलते ही रविवार को राखी की दुकानें सज गयी। पर्व में केवल एक दिन ही शेष बचे है। इसलिए राखी की दुकानों में रखी खरीदने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।

शहर के स्टेशन, मटकोरी कुंआ,मलहचक मोड़ पर राखी की दुकानें पर बहनों ने जल्दी जल्दी में राखी की खरीदारी की। इस बावत  जहानाबाद मटकोरी कुआं के पास दुकानदार सूरज ने बताया कि कोरोना वायरस और लॉक डाउन के कारण पिछले वर्ष की तुलना में राखी की बिक्री न के बराबर है। इस बार राखी के कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। दुकानें नहीं खुलने के करण परेशानी हुई।बहरहाल भाई बहनों के अटूट प्यार के प्रतीक का त्योहार रक्षाबंधन पर कोरोना का पहरा है। और बहने चाह कर भी अपने भाईयों को ना ही मनपसंद राखी बांध सकती है और ना ही मिठाईयां खिला सकती है।

कोरोना वायरस महामारी के चलते इस साल हर एक त्योहार पर प्रतिकूल असर पड़ा है। राखी का त्योहार भी इससे अछूता नहीं है। ऐसे में जरूरी है कि हम इस त्योहार पर भी अपना और अपने परिवार का विशेष ख्याल रखें।