किशनगंज में दुर्लभ प्रजाती का जीव मिला

1138
0
SHARE

किशनगंज दुलाली में एक अजीब जंगली जानवर मारने की खबर है, जिसे देखने हजारों लोग आ रहे हैं, खास बात ये है कि जानवर का नाम कोई नहीं बता पा रहे हैं।

क्या है ये दुर्लभ प्रजाती का जीव आइये जानते है इस जीव का नाम पैंगोलीन है

IMG-20170806-WA0045पैंगोलीन के शरीर पर शल्क (स्केल) नुमा संरचना होती है, जिससे यह अन्य प्राणियों से अपनी रक्षा करता है। दुनियाभर में पैंगोलिन की सात प्रजातियां पाई जाती है। ये अक्सर नेपाल के जंगलों में पाए जाते हैं और आकर में छोटे होते हैं। पिछला पैर अगले पैर की तुलना में बड़ा और मोटा होता है। इसके दांत नहीं होते। यह जीभ से ही शिकार करता है। इसकी जीभ करीब 25 सेंटीमीटर तक होती है और वह आसानी से अपने शिकार को अपनी जीभ पर चिपका लेता है

पैंगोलिन के चेहरे, गले और पैरों के आतंरिक हिस्सों में कवच नहीं होता। इसके शल्क पुराने पड़ने पर झड़ते और बनते रहते हैं। शल्क का रंग भूरे से लेकर पीला तक होता है। शरीर का शल्कमुक्त भाग सफेद, भूरे और कालापन लिए होता है। पैंगोलिन रात में भ्रमण करते हैं और ये पेड़ पर चढ़ने में माहिर होते हैं। पैंगोलिन का मुख्य आहार चीटियां और दीमकों के अंडे हैं।
IMG-20170806-WA0044
अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस जीव की मांस की कीमत 2 लाख रुपया/प्रति किलो है इससे सेक्स पॉवर बढ़ाने तथा एड्स जैसे बड़ी बीमारियों का इलाज होता है।