घूस लेने के आरोप में अंचल कर्मी बर्खास्त

533
0
SHARE

किशनगंज समाचार / संवाददाता- (Kishanganj News) घूस लेने के आरोप में किशनगंज अंचल के लिपिक जहीर आलम को बर्खास्त कर दिया गया है। जिलाधिकारी पंकज दीक्षित ने पत्र जारी कर इस संबंध में निर्देश जारी किया है। जिलाधिकारी की ओर से जारी किए पत्र में स्पष्ट किया गया है कि अंचल के उच्चवर्गीय लिपिक जहीर आलम भ्रष्टाचार में लिप्त पाए गए हैं। वे अपने कर्तव्यों के प्रति निष्ठावान नहीं हैं।

Read More Kishanganj News in Hindi

इनके द्वारा आमजन से जाति, निवासी, आय, क्रिमीलेयर आदि प्रमाण पत्र बनवाने के एवज में राशि लेने की पुष्टि हुई है। बिहार सरकारी सेवक नियमावली के तहत सेवा से बर्खास्त किया जाता है। जाति व निवासी प्रमाण पत्र निर्गत करने के एवज में किशगनंज अंचल के उच्च वर्गीय लिपिक जहीर आलम चकला निवासी शहनवाज से 10-10 रुपये घूस ले रहे थे। एक दैनिक अखबार ने छह अगस्त 2016 के अंक में इसे फोटो सहित प्रमुखता से प्रकाशित किया था। अखबार में छपी खबर का संज्ञान लेते हुए अंचलाधिकारी रमण कुमार सह ने जहीर आलम के विरूद्ध टाउन थाना में प्रिवेंशन ऑफ करपशन एक्ट के तहत केस दर्ज कराया था। साथ ही जहीर को तत्काल निलंबित करते हुए विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गई थी। इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा निर्गत पत्र के तहत संचालन पदाधिकारी के रूप में डीएसओ हीरामुनी प्रभाकर व अंचलाधिकारी को नियुक्त किया गया था। लगातार दो बार कारणपृच्छा के तहत उपस्थित नहीं होने व जांच में मामला सत्य पाए जाने के बाद जहीर आलम के विरूद्ध प्रपत्र क गठित किया गया था। जांच में दोषी पाए जाने के बाद डीएम ने जहीर आलम के विरोध बर्खास्त करने की कार्रवाई की। डीएम ने अपने पत्र में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि जहीर को निलंबन अवधि के लिए मात्र जीवन निर्वाह भत्ता देय होगा।