‘र’ से रिया, ‘र’ से राफेल

344
0
SHARE

कपिल शर्मा अक्सर अपने लोकप्रिय शो में अपने गेस्ट से पूछते हैं कि क्या आपने कभी सोचा था कि आप एक दिन मेरे शो पर आएंगे. लोग हंस देते हैं. अब दूसरा सवाल: क्या कभी रिया चक्रवर्ती ने सोचा था कि उनका नाम दिन-रात टीवी पर जपा जाएगा? सपने जरुर देखा करती होंगी कि फिल्मों में ऐसा कुछ करें कि खूब नाम हो. पर हुआ उलट ही. नाम तो नहीं खूब बदनामी मिल रही है और सुशांत सिंह राजपूत के करोड़ों चाहने वालों की दुश्मनी भी. अगर आप सोशल मीडिया पर हैं तो जानते होंगे कि इन फैन्स की शक्ति क्या है. कई लोगों को सुशांत की खुदकुशी के बाद फैन्स का गुस्सा झेला नहीं गया और ट्विटर डीएक्टिवेट करना पड़ा. सोनाक्षी सिन्हा का उदाहरण ले सकते हैं. फैन्स रिया के खून के प्यासे हो रहें हैं और कोई भी तर्क समझने को तैयार नहीं. उनके कमेंट्स देखकर आप खुद भी ताज्जुब करेंगे. रिया गुनहगार हैं या नहीं ये अभी सिद्ध नहीं हुआ सिर्फ आरोप लगें हैं पर सुशंन्त के चाहने वालों ने फैसला भी सुना दिया है. मजाल है कोई सुशांत के खिलाफ या रिया के पक्ष में कुछ लिख दे, चुन-चुन कर गंदी गालियों की बरसात होने लगेगी. इनकी शक्ति और जज़्बात को देखते हुए बिहार के कमोबेश सभी नेता सुशांत को न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं.

टीवी और वेब पर दो लैंडिंग की जबरदस्त चर्चा रही. बिहार पुलिस मुंबई में लैंड और राफेल अम्बाला में.

अब आज के दूसरे खबर पर गौर फरमाते हैं. इत्तेफाक से वो भी रिया की तरह ‘र’ से शुरू होता है. दोनों खबरों में एक समानता है. राफ़ेल को लेकर टीवी पर जो लगातार जाप चला, उसके खिलाफ कोई बोले तो सीधे देशद्रोही साबित हो सकता है. वैसे ही आप राम मंदिर पर भी उलट राय नहीं दे सकते. इत्तेफाक देखिए ये भी ‘र’ से है. राफेल के टेकऑफ से लेकर लैंडिंग तक हर खबर की धूम रही. वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने कहा कि विश्व भर में इस हरकत से हम हँसी के पात्र बन गए हैं. वहीं वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सारदेसाई ने कहा कि राफेल का आना अच्छी बात है पर इतना बैंड बाजा बारात ठीक नहीं, फाइटर प्लेन है वैक्सीन नहीं. दोनों को इस कमेन्ट के लिया क्या-क्या सुनना पड़ा होगा वो आप खुद देख सकते हैं.

बहरहाल आज टीवी पर रिया और राफेल के बीच टक्कर जबरदस्त रही.