RJD प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं के नाम लिखा पत्र, सभी से की ये अपील

195
0
SHARE

PATNA: राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने रविवार को दूसरे प्रदेशों से अपने बिहार लौटने वालों का स्वागत और सम्मान करने हेतु राष्ट्रीय जनता दल से जुड़े सभी के नाम एक पत्र लिखा. उन्होंने लिखा कि राजद के सभी सम्मानित साथियों, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के पहल और दबाव पर देश के दूसरे प्रदेशों में फंसे हुए हमारे भाईयों का बिहार लौटने का सिलसिला शुरू हो चुका है. प्रतिदिन हजारों की संख्या में ट्रेनों एवं अन्य संसाधनों के साथ हीं पैदल भी लोग बिहार पहुँच रहे हैं.

देश में एकाएक लाॅकडाउन लागू हो जाने के कारण रोजी-रोटी की तलाश में घर से दूर दूसरे प्रदेशों मे प्रवास करने वाले अपने बिहारी भाईयों के सामने अचानक समस्याओं का पहाड़ खड़ा हो गया. जहां वे काम करते थे वे फैक्ट्रियां और संस्थानें बंद हो गई. आय का जरिया बंद हो गया और उन्हें भोजन और आवासन की समस्या से जूझने को मजबूर होना पड़ा. सरकारी स्तर पर इनके लिए व्यवस्था के नाम पर मात्र खानापूरी हो रहा था.

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के पहल पर दूसरे प्रदेशों में फंसे हुए लोगों को यथासंभव मदद पहुँचाने का प्रयास किया गया और आज भी किया जा रहा है. इन विषम परिस्थितियों में उनके सामने वापस बिहार आने के सिवा और कोई विकल्प नहीं रहा. नेता प्रतिपक्ष द्वारा उन्हें बिहार बुलाने के लिए सरकार पर लगातार दबाव बनाया गया पर सरकार निष्क्रिय बनी रही. परिणामस्वरूप हजारों हजार की संख्या में लोग पैदल और साईकिल से अपने अपने घरों के लिए चल पड़े.

तेजस्वी द्वारा बिहार के लोगों को लाने के लिए जब बस और ट्रेन का किराया देने की पेशकश की गई तो ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया है. परन्तु आज भी उतनी ट्रेन नहीं चल रही है जितनी चलनी चाहिए. लेकिन लोगों का बिहार लौटने का सिलसिला शुरू हो चुका है.

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आदरणीय लालू प्रसाद और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव का स्पष्ट निर्देश है कि दूसरे प्रदेशों से बिहार लौटने वाले हमारे परिवार के सदस्य हैं. पिछले कई सप्ताह से कठिन परिस्थितियों को झेलते हुए वे आज अपने घर लौट रहे हैं इसलिए गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत करना हम सबों की जिम्मेवारी बनती है. अपने राज्य के आर्थिक विकास में उनका बहुत बड़ा योगदान है. वे सभी हमारे परिवार के सदस्य हैं.

राजद के सभी सम्मानित साथियों से अनुरोध है कि वे अन्य साथियों के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने निकट के उस स्टेशन पर उनके स्वागत के लिए मुस्तैद रहें जहाँ बिहार लौटने वाली ट्रेन आ रही हो. यदि संभव हो सके तो आने वाले अपने भाईयों का स्वागत फूलों से करें. जिला और प्रखंड में भी जिन केन्द्रों पर दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों की जाँच और कोरांटाइन की व्यवस्था सरकार के स्तर पर करायी गयी है, वहाँ भी राजद के साथियों को मुस्तैद रहने की जरूरत है और व्यवस्था में लगे हुए सरकारी कर्मियों अथवा स्थानीय जन प्रतिनिधियों को हर तरह से सहयोग देना है जिससे वहाँ ठहराये गये लोगों को किसी प्रकार का असुविधा नहीं हो.

इस बात का विशेष ध्यान रखना है कि जहाँ इन्हें ठहराया गया है वहाँ आवासन और भोजन की व्यवस्था निर्धारित मापदंड के अनुसार है कि नहीं. कोरांटाइन सेन्टर पर साफ-सफाई पर विशेष नजर रखने की जरूरत है. बिछावन निर्धारित दूरी के अनुसार साफ होना चाहिए. वहाँ ठहराये गये लोगों की संख्या के अनुपात में शौचालय और स्नानागार होना चाहिए. पीने के लिए शुद्ध पानी की व्यवस्था होनी चाहिए.

इस कोरोना वायरस के ईलाज और बचाव के लिए अभी कोई दवा नहीं है. इससे बचाव का एकमात्र उपाय व्यक्ति का रोग प्रतिरोधक क्षमता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाने के लिए निर्धारित मापदंड के अनुसार भोजन और नास्ता का होना आवश्यक है. जो लोग काफी कष्ट और कठिनाइयों को झेल कर यहाँ आये हैं स्वाभाविक रूप से उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम गई होगी. ऐसी स्थिति में यदि वे इस वायरस की चपेट में आते हैं तो उससे निजात पाना उनके लिये कठिन होगा.

इसलिए निश्चित रूप से ठहरे हुए लोगों को निर्धारित मापदंड के अनुसार हीं भोजन और नास्ता की व्यवस्था होनी चाहिए. आप साथियों की यह महती जिम्मेवारी बनती है कि आपके आसपास बनाये गये कोरांटाइन सेन्टर पर स्तरीय व्यवस्था है कि नहीं, इसकी सतत निगरानी रखेंगे. यदि कोई कमी महसूस हो तो आवश्यकता अनुसार सम्बद्ध पदाधिकारियों से सम्पर्क कर समस्याओं के निराकरण के लिए अपने स्तर से पहल करेंगे.

आपके व्यवहार और उपस्थिति से उन्हें काफी सुकून मिलेगा. उन्हें एहसास होगा कि वे अकेले नहीं हैं उनके साथ हर बिहारी खड़ा है. वे हमारे वृहत परिवार के सदस्य हैं. जबतक उनके चेहरे पर मुस्कान नहीं लौटती हमें चैन से नहीं बैठना है.