बुनियादी सुविधाओं से महरूम जनजातीय बस्ती

286
0
SHARE

दया नन्द तिवारी

रोहतास – जिला के दक्षिणी भाग आदिवासी जनजाति बहुल क्षेत्र है। जहां आज भी विकास की किरण नहीं पहुंच पा रही है। हम बात करते हैं सासाराम के जिला मुख्यालय से चंद किलोमीटर की दूरी पर स्थित ‘कोल’ आदिवासी बस्ती की। ढाई सौ घरों वाला इस जनजातीय बस्ती में एक भी व्यक्ति सरकारी नौकरी में नहीं है। वहीं बस्ती आज भी बुनियादी सुविधाओं से महरूम है। जिला मुख्यालय के सबसे निकट स्थित इस जनजातीय बहुल इलाके में विकास की किरणें अभी भी नहीं पहुंची है।

रोहतास जिला नक्सल प्रभावित रहा है। खासकर इसका दक्षिणी पर्वतीय क्षेत्र जो जनजातीय बहुल है। जहां के पिछड़ेपन का फायदा उठाकर नक्सलियों ने इसे कभी अपना अपना घर बना रखा था। लेकिन अब जब परिस्थितियां बदली है, फिर भी इन आदिवासी बस्तियों में नागरिक सुविधाएं नहीं पहुंच पा रही है। ये जिला मुख्यालय से चंद कदमों की दूरी पर स्थित है ‘कोल आदिवासी बस्ती’। इस बस्ती के लोगों को शुद्ध पानी भी नसीब नहीं है स्वच्छता अभियान में शौचालय बनाने की बात तो हुई। लेकिन शायद ही किसी घर में शौचालय पूरा बन पाया। जिस कारण लोग खुले में शौच को जाने को विवश है। आस पास कोई उप स्वास्थ्य केंद्र तक नहीं है। जहां बीमार का इलाज हो सके।

गांव के लोगों की माने तो ऐसा नहीं है कि विकास का काम यहां नहीं होता। गलियों में पक्की सड़क कई बार बनती है, लेकिन वो गुणवत्ताहीन होने के कारण टूट जाती हैं। इंदिरा आवास बहुत पहले मिला भी तो आधा अधूरा ही रह गया। स्थिति यह है कि एक-एक कमरे में पूरा का पूरा परिवार बसता है। रोजगार के नाम पर मजदूरी के अलावा और कोई पैसा नहीं है। जबकि जनजाति समुदाय के विकास पर केंद्र से लेकर राज्य सरकार तक दर्जनों योजनाएं चल रही है। लेकिन ना जाने किस जागरूकता के अभाव में यह योजनाएं इन तक नहीं पहुंच पा रही है? जबकि जिला मुख्यालय से सबसे नज़दीक का जनजातीय बहुल बस्ती है कोल आदिवासी बस्ती।

सदर एसडीओ राजकुमार गुप्ता कहते हैं कि समय-समय पर जन जागृति तथा लोगों को योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए अभियान चलता रहता है तथा कोशिश रहती है कि इसका लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे। कहते हैं कि जो भी योजनाएं बनती हैं। वे इन गरीबों को देख कर ही बनती है। लेकिन ना जाने इन तक पहुंचती क्यों नहीं है? जरूरी है कि इन्हें सरकार से मिलने वाली सुविधायें मुहैया कराया जाए तथा तभी विकास के साथ रफ्तार मिलाया जा सकता है।