सड़क दुर्घटनाओं में हो रही प्रवासी श्रमिकों की मौत नीतीश सरकार की विफलताओं का परिणाम – कांग्रेस

170
0
SHARE

PATNA: बिहार प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने सड़क दुर्घटनाओं में हो रहे प्रवासी श्रमिकों के मौत को बिहार में 15 वर्षों से सत्तासीन नीतीश सरकार के विफलताओं का परिणाम बताया है. प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने बयान जारी कर कहा है कि आज कोरोना महामारी के महा आपदा काल में विभिन्न राज्यों से जो मजदूर अपने प्रदेश बिहार वापस लौट रहे हैं. वे सरकार के द्वारा मौलिक सहायता के अभाव में सड़कों पर मर जाने पर विवश है.

उन्होंने कहा कि आज भागलपुर के नवगछिया में सड़क दुर्घटना में मौत का शिकार हुए 9 श्रमिकों तथा घायलों के प्रति कांग्रेस गहरा दुख व्यक्त करती है. साथ ही नीतीश सरकार से मांग करती है कि मृतकों के परिजनों को मात्र चार लाख नहीं बल्कि 20 लाख रुपया का मुआवजा प्रदान करें. राठौड़ ने कहा कि सिर्फ भागलपुर में हुए प्रवासी श्रमिकों के मुआवजे के साथ साथ बिहारी इस कोरोना काल में घर वापसी में किसी भी राज्य में हुए दुर्घटना उन्हें मुआवजा दिया जाए चूंकि नीतीश सरकार श्रमिकों को सवारी उपलब्ध कराया होता तो श्रमिकों की जान नहीं जाती.

उन्होंने कहा की सड़कों पर दुर्घटनाओं के शिकार होकर जो मजदूर मौत के मुंह में चले जा रहे हैं. दरअसल वो 15 वर्षों से बिहार में सत्तासीन नीतीश सरकार के विफलताओं का दुष्परिणाम भुगतने को मजबूर है. 15 वर्षों में अगर यह सरकार राज्य के विकास के लिए सक्रिय तथा सजग रहती. तो आज इतनी बड़ी संख्या में बिहारियों का पलायन ना हुआ होता.

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने भागलपुर के नवगछिया में सड़क दुर्घटना में मारे गए नौ के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है की राज्य सरकार पूरी जिम्मेदारी लेते हुए मृतकों के परिजनों को 20-20 लाख मुआवजा राशि प्रदान करें. जिससे कि उनके परिजनों के भविष्य का संचालन हो सके.