कुंभ से आध्यात्मिक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित होगा सिमरिया : रजनीश

146
0
SHARE

पटना, 12 सितंबर 2017। कुंभ सेवा समिति के महासचिव विधान पार्षद रजनीश कुमार ने कहा कि कुंभ से सिमरिया आध्यात्मिक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित होगा और बिहार के युवकों को रोजगार का अवसर मिल सकेगा। जिस प्रकार एक माह के श्रावणी मेले में सुल्तानगंज से देवघर तक हजारों-लाखों लोग रोजगार से जुड़ते हैं, उसी प्रकार चालीस दिनों के कुंभ महामेला में बड़ी संख्या में युवकों को कमाई का अवसर प्राप्त हो सकेगा। देश-दुनिया में कई ऐसे स्थल हैं जहां पूरी अर्थ-व्यवस्था धार्मिक और आध्यात्मिक पर्यटन के बूते ही निर्भर है। सिमरिया को भी आध्यात्मिक-धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित करने में कुंभ की महत्वपूर्ण भूमिका साबित होगी। कुंभ का आयोजन 06 अक्टूबर से 17 नवंबर तक होगा।

कुमार ने कहा कि सिमरिया में उत्तरवाहिनी मां गंगा के पावन तट पर तुला राशि में पूर्ण कुंभ की अद्भुत संयोग इस बार बन रहा है। तुला राशि में होने की वजह से कुंभ तुलार्क कुंभ के नाम से जाना जा रहा है। इस पावन अवसर पर काशी, अयोध्या, प्रयाग, द्वारिका, उज्जैन और चित्रकूट अखाड़ों से संतों के पधारने की संभावना है। साधु-संतों के अलावा लाखों श्रद्धालु सिमरिया आएंगे। इससे पूर्व 2011 में अर्द्ध कुंभ का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है।

कुमार ने बताया कि कुंभ सेवा समिति इस पूरे आयोजन में सरकार, नागरिक व्यवस्था और समारोह के बीच समन्वय का महत्वपूर्ण कार्य कर रही है। समिति के द्वारा इस बार यह प्रयास किया जा रहा है कि आयोजन में आम लोगों, स्थानीय नागरिकों और युवकों की सहभागिता बढ़ायी जाय। इसके लिए जनजागरण, चर्चा-परिचर्चा जैसे कार्यक्रम किये जा रहे हैं। स्थानीय स्तर पर परिचर्चा का आयोजन कर स्वामी चिदात्मन जी महाराज, महंत राम सुमिरन दास जी और महंत शंकर दास जी जैसे साधु-संत भी सीधे लोगों से जुड़कर कुंभ को सफल बनाने का आह्वान कर रहे हैं।

Like us on Facebook: https://www.facebook.com/MagnificentNewsBihar/
Follow us on Twitter: https://twitter.com/MNP_BIHAR
Subscribe to our You Tube Channel: https://www.youtube.com/user/magicbihar