छठे दिन भी एम्बुलेंस चालकों की हड़ताल से चरमरायी स्वास्थ्य व्यवस्था

376
0
SHARE

सुपौल – कहा जाता है कि एम्बुलेंस सेवा जीवन दायनी होती है, कहीं भी जाम हो या बंदी हो उसमें भी एम्बुलेंस सेवा को बाधित नहीं किया जाता है, जबकि सुपौल जिले में पिछले 6 दिन से एम्बुलेंस सेवा बाधित है। फिर भी स्वास्थ्य विभाग या जिला प्रशासन इस समस्या को नजरअंदाज किये हुए हैं। सरकार एवं प्रशासन एवं कम्पनी के विरुद्ध धरना पर बैठे एम्बुलेंस चालकों ने नारेबाजी किया एवं बतलाया कि हमारी पाँच सूत्री माँग में मुख्य माँग है कि ई0 एम0 टी0 किशोर देव को जुलाई माह से वेतन देते हुए फिर से कार्य पर लगाया जाए।

उन्होंने कहा कि हमलोगों से 12 महीने से लगातार 12 घण्टा डयूटी ली जाती हैं, जबकि वेतन 8 घण्टा का ही दिया जाता है। कर्मचारी भविष्य निधि कटौती को कोष में जमा नहीं किया जाता है, जिले के वरीय पदाधिकारी द्वारा ई0 एम0 टी0 एवं ड्राइवर के ऊपर आर्थिक, शारीरिक, मानसिक शोषण बंद किया जाए। वहीँ इंटक कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण कुमार झा ने धरना पर बैठे एम्बुलेंस चालकों को नैतिक समर्थन देते हुए कहा कि एम्बुलेंस चालकों की माँग को जल्द सहानुभूति पूर्वक नहीं माना गया तो आगे इंटक कांग्रेस के बैनर तले उग्र आंदोलन किया जायेगा।