बेरहम राम रहीम पर कोर्ट ने नहीं किया रहम, मिली 20 साल की सजा

356
0
SHARE

रोहतक दो साध्वी के रेप के केस में बाबा राम रहीम को मिली दुहरी सजा। शुक्रवार को दोषी ठहराए गए राम रहीम को आज अदालत ने फैसला सुनाते हुए उसे 20 साल का सजा सुनाया है। न्यायधीश जगदीप सिंह ने आईपीसी धारा 376 के आधार पर राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई है। दो रेप केस को मिला कर यह सजा दी गई है। साथ ही दोनों पीड़ितों को 14-14 लाख का मुआवजा भी मिलेगा।

रोहतक जेल में ही लगाया गया विशेष अदालत, न्यायधीश जगदीप सिंह जेल में ही हेलीकाप्टर से उतरें। जेल में ही एक रुम में अस्थायी अदालत बनाया गया था। अदालत में कुल 8 लोग मौजूद थे, जिसमे 3 विपक्ष के वकील, 2 सीबीआई और 3 जज के स्टाफ मौजूद थे। अदालत की कार्यवाही शुरू होते ही दोनों पक्षों को 10-10 मिनट का वक्त दिया गया। जिसमें दोनों पक्षों ने अपनी-अपनी दलील अदालत में रखा। सीबीआई के वकीलों ने अपनी दलीलों में अधिकतम सजा की मांग की, और कहा बाबा का गुनाह बड़ा है। सीबीआई ने उम्रकैद की मांग की थी।

विपक्ष के वकील ने अपनी दलीलों में कहा कि राम रहीम समाजसेवी हैं, इसलिए इनके साथ थोड़ी नरमी बरती जाए। उन्होंने राम रहीम की जेल बदलने की भी मांग की है। न्यायधीश जगदीप सिंह ने फैसला सुनाते हुए 10 साल का सजा सुनाया, और मौके पर सीबीआई के वकील और राम रहीम के वकील भी मौजूद थे। राम रहीम ने कहा कि हमने लोगों की भलाई के लिए काम किया है, जिसमे रक्तदान और सफाई अभियान भी कराया है। एक तरफ राम रहीम हाथ जोड़ कर समाजसेवा के नाम पर दुहाई देकर मांग रहा था। सजा कम करने की भीख मांगते रहा, 7 साल की सजा सुनाने का अनुरोध कर रहा था। आईपीसी की धारा 376 और महिला अपमान की धारा 509 के मुताबिक़ कम से कम 7 से 10 साल तक का सजा और 65 हजार का जुर्माना भी लगाया है।

baba-ram-rahim-quadi-number-1997-27-1503775807