अज़ब प्रेम की गजब कहानी, एक पत्नी पर तीन पतियों का दावा, मामले को सुलझाने में उलझी पुलिस

1121
0
SHARE

दरभंगा- “एक फूल दो माली” की कहानी तो आपने सुनी ही होगी। लेकिन इससे भी एक स्टेप आगे यह कहानी साबित हो जाएगी। शायद ही आपने सोचा होगा। मगर यह कहानी सच है। यह कहानी एक फूल तीन माली या यूं कहे अज़ब प्रेम की गजब कहानी की है तो कोई संकोच नहीं होगा, चुकी कहानी ही कुछ ऐसी है । दरअसल प्रेम दीवानी राधिका की शादी उसकी इच्छा के विपरीत घरवालों ने संजय झा से कर दी जिसके कुछ दिनों बाद ही राधिका गायब हो गयी और मोबाइल के रौंग नंबर पर संपर्क में आये मोहन सिंह को अपना दिल दे बैठी, प्यार को सुखद अंजाम देते हुए राधिका ने मोहन से 2014 में शादी भी कर ली। समय बीतने के साथ इस बीच राधिका ने एक बच्चे को भी जन्म दी, पर पारिवारिक कलह के कारण राधिका का मन यहां भी नहीं लग रहा था । ऐसे में राधिका अचानक यहां से भी गायब हो गयी और रोसड़ा निवासी शिव शंकर राय से मुलाकात हुई। दोनों की आंखे चार हुई और महज़ कुछ ही घंटे मुलाकात के बाद दोनों ने एक मंदिर में शादी कर ली।

मज़ेदार बात यह है कि शिव शंकर पहले से ही शादीशुदा है फिर भी राधिका और शिव शंकर अलग नहीं होना चाहते । शिव शंकर की माने तो वह राधिका को रखने के लिए अपनी पत्नी को तालाक देने के लिए भी तैयार है। जबकि राधिका का दूसरा पति मोहन राधिका को अपने साथ ले जाने पर आमादा है। ऐसे में पुलिस के भी सर चकराने लगे हैं कि आखिर वह करे तो क्या करे राधिका को किसके साथ भेजे ! पुलिस अब सभी को अदालत में पेश करने जा रही है। जहां अब अदालत के निर्देश का इंतजार है वहीं इस कहानी को सुनकर हर कोई हैरत में है । लेकिन एक लड़की की दो-दो बार अपहरण की गुत्थी सुलझाकर फिलहाल पुलिस तो राहत की सांस ले ली है, पर इस प्रेम गाथा की पोल खुलने के बाद कई परिवार के लोग एक साथ परेशानी में आ गए हैं । मोहन अपने बेटे को अपने पास रखना चाहता है। चाहे उसकी पत्नी राधिका उसके साथ रहे या न रहे, पर राधिका मोहन के साथ नहीं रहना चाहती और न ही अपने बेटे के बिना रहने को तैयार है। इधर शिव शंकर अपनी असली पत्नी को छोड़ राधिका के साथ रहना चाहता है। चाहे इसके लिए उसे अपनी पहली पत्नी को तालाक ही क्यूं न देना पड़े।