दो डॉक्टर के भरोसे जिले के तेईस पशु अस्पताल

2174
0
SHARE

कैमूर जिले के पशु अस्पतालों का हाल बहुत बुरा है। कुल 23 पशु अस्पताल हैं लेकिन डॉक्टर के नाम पर मात्र दो, इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन अस्पतालों में डॉक्टरों का कितना अभाव है।

Read More Kaimur News in Hindi

एक-एक डाक्टरों के जिम्मे ग्यारह से बारह अस्पताल हैं। ऐसे में पशु पालकों के पशु का क्या हालत क्या होता होगा ? कैमूर जिले में लगभग सभी घरों में एक या एक से अधिक पशु जरूर मिल जाएंगे लेकिन उन पशुओं का समुचित ईलाज नहीं हो पाता है जिस कारण कई पशु ईलाज के अभाव में दम तोड़ देते हैं।

पशु पालक बताते हैं कि हमलोग गाय,भैंस पालते हैं लेकिन जब ये बीमार पड़ जाते हैं तो उनका सही ईलाज नहीं हो पाता है क्योंकि जब भी अस्पताल में जाते हैं तो पता चलता है कि डॉक्टर नहीं है जिस कारण हमें मजबूरन झोला-छाप डाक्टर के पास जाना पड़ता है,वो पैसा भी ज्यादा ले लेता है और सही ईलाज भी नहीं करता है जिससे हमलोग अब पशु पालना भी धीरे-धीरे कम कर दिए हैं। जिले के पशुपालन अधिकारी दिव्सन यादव ने भी कबूल किया कि हमारे यहां डाक्टर का अभाव है। जिले में सिर्फ दो डाक्टर हैं जिनके भरोसे तेईस अस्पताल है। इसी कारण हर समय वो एक अस्पताल पर नहीं मिलते हैं जिससे लोगों को थोड़ी परेसानी उठानी पड़ती है। डॉक्टरों की हर मीटिंग में यह मुद्दा उठता है लेकिन अभीतक इसका कोई ठोस हल नहीं निकल पाया है।