राजनीतिक लट्ठ बाजी के बीच किसे मिल रहा है बेशर्त प्यार ?

265
0
SHARE

पटना – बिहार कॉंग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी को लेकर अटकले तेज हैं – जानकार बताते हैं कि वे कभी भी कोई भी बड़ा फैसला ले सकते हैं। इस बीच आज राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कह दिया है कि वे कॉंग्रेस के छुटभैयों का नोटिस भी नहीं लेते क्यूंकि उनकी बात सीधे सोनिया और राहुल गांधी से होती है। अब छुटभैयों के कैटेगरी में कौन-कौन है, ये तो लालू ही जाने?

जब से कांग्रेस बिहार में सत्ता से बाहर हुई है, तब से उसके भीतर घमासान मचा हुआ है। विधायकों की टूट की खबर के बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बिहार के कई बड़े नेताओं को दिल्ली भी तलब कर चुके हैं और चौधरी अपने दुःख का इजहार टीवी पर कर चुके हैं।

आज कांग्रेस में जारी खींचतान पर पूर्व श्रम संसाधन मंत्री विजय प्रकाश ने भी कहा कि कांग्रेस में शामिल हो गये हैं JDU और RSS के नेता। साथ ही यह भी कहा कि प्रदेश सरकार का बचाव न करें अशोक चौधरी क्यूंकि वे विपक्ष की भूमिका में हैं। गौरतलब है कि महागठबंधन टूटने के बाद से चौधरी नीतीश कुमार पर बेहद नर्म दिखे हैं, यहाँ तक कि कहलगांव में नहर ध्वस्त होने के मामले में भी एक तरह से वे नीतीश का बचाव ही करते दिखे।

दो दिन पहले एक लेटर वायरल हो रहा था जिसमें चार वर्किंग प्रेसिडेंट के नाम का जिक्र किया गया था। लेटर में यह लिखा गया था कि इन चारों लोगों की नियुक्ति कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की सहमति से की गयी है। इस लेटर में अखिलेश सिंह, मदन मोहन झा, शकील उज्जाम अंसारी और अशोक राम को कार्यकारी अध्यक्ष बनाने की बात लिखी गई है। हालांकि बाद में इसे फर्जी करार दिया गया।

वायरल लेटर
वायरल लेटर

उधर राज्य सभा सांसद अली अनवर ने भी बिहार कांग्रेस में टूट को लेकर जदयू और बीजेपी पर एक साथ निशाना साधा और कहा कि अब तो डबल इंजन से काम हो रहा है और बीजेपी तो तोड़ने का ही काम करती है।

पर इन सब के बीच खुद चौधरी क्या कर रहे हैं ? अशोक चौधरी अभी भी अपने पत्ते नहीं खोल रहे, आज सुबह वे अपना समय उनके साथ बिताते नज़र आए जो उन्हें करते हैं बेशर्त प्यार। वे हैं सिम्भा, हाची, कोको और चांस। ये कौन हैं जानने के लिए देखिये वीडियो। पर हाँ नवरात्रि के प्रथम दिन एक प्रार्थना जरूर है अशोक चौधरी का अपने विद्रोहियों के लिए, वो ये कि ईश्वर उन सभी को सदबुद्धी दें। अब सदबुद्धी किस लिए, इस पर आप विचार करें !