विधानसभा कार्यवाही से पहले अध्यक्ष ने सर्वदलीय बैठक,जाने क्या है पूरा मामला

159
0
SHARE

PATNA: मंत्री रामसूरत राय पर लगे आरोपो और शनिवार को सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच हाथापाई को लेकर आज सर्वदलीय बैठक हुई है। बता दे कि बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा की अध्यक्षता में हुई बैठक में कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका। शराबबंदी पर सदन में चर्चा की विपक्ष की मांग सत्ता पक्ष ने नहीं मानी है। वहीं इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने शनिवार को कोई घटना को लेकर सभी दलों को चेतावनी भी दी, साथ ही इस घटना दोबारा ना होने का बात भी की।

इस बैठक में डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद, संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, मंत्री विजेंद्र यादव, कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, मंत्री श्रवण कुमार समेत वाम दलों के दलीय नेता बैठक में शामिल हुए।

RJD नेता भाई वीरेंद्र ने कहा कि रामसूरत राय का मामला में शनिवार को सदन में उठाया था। साथ इस मामले में राजभवन के राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा।उसी को लेकर आज बैठक हुई है। भाई वीरेंद्र ने कहा कि शराबबंदी के नाम पर सरकार बिहार में ढकोसला कर रही है। 12 करोड़ का शराब राजधानी पटना में पकड़ा रहा है।
बॉर्डर पर पुलिस पदाधिकारी के तैनाती के बावजूद भी शराब की बड़ी खेप बरामद क्यों हो रहा है। बिहार सरकार के रखुसदर नेता शामिल है। शराब बेचने वाले का जो रैकेट चल रहा है। शराब व्यपारी नेता के देखरेख में धड़ल्ले से शराब बेच रहे है।

बिहार में अपराध का मामला बढ़ते रह रहा है। चाहे यह हत्या, डकैती और बलात्कार का मामला हो बिहार में रोज इसकी संख्या बढ़ती चली जा रही है। कयोकि इसपर ध्यान किसी का है ही नहीं। कयोकि इसमें पैसा नहीं मिलता है। और शराब बेच कर लोग अरबों रुपए कमा रहे है। इसलिए उसी को लेकर बैठक हुई है। हम चाहते है कि अगर बिहार में शराबबंदी है तो वह पूर्ण रूप से बंद हो। बॉर्डर से बिहार में शराब लाने में सरकार का हाथ है।